kheti samachar :आज ही करे लाल भिंडी की खेती और कमाए लाखो रूपये,जाने कैसे करे इसकी खेती

thesastra

kheti samachar : तकनीक की मदद से हर क्षेत्र में कई तरह के प्रयोग हो रहे हैं। कृषि क्षेत्र भी इस विकास से अछूता नहीं है। देश में किसान अब तकनीक का उपयोग करके पारंपरिक खेती के साथ-साथ कई तरह की नई फसलें उगाने में सफल हो गए हैं। संकर बीज तैयार कर फसलों की नई किस्में तैयार की जा रही हैं। इससे किसानों का रुझान नकदी फसलों की ओर बढ़ा है। ऐसे प्रयोगों से सब्जियों की नई किस्में भी तैयार की गई हैं।

लाल भिंडी की खेती का चलन बढ़ने लगा है
हरी भिंडी वैसे भी बहुत लोकप्रिय है और इसकी खेती भी बड़े पैमाने पर की जाती है। लेकिन अब देश में किसान भी लाल भिंडी की खेती कर रहे हैं। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि लाल भिंडी हरी भिंडी से ज्यादा फायदेमंद होती है। वहीं, बाजार में लाल भिंडी की कीमत हरी भिंडी के मुकाबले कई गुना ज्यादा है। इस तरह यह किसानों के लिए फायदे का सौदा भी है।

यह भी पड़े Petrol Diesel Price: पेट्रोल डीजल के रेट में आया बड़ा बदलाव ,जाने क्या हे अपने शहर में पेट्रोल डीजल के रेट

kheti samachar :आज ही करे लाल भिंडी की खेती और कमाए लाखो रूपये,जाने कैसे करे इसकी खेती

फसल 45-50 दिनों में तैयार हो जाती है
उत्तर प्रदेश के वाराणसी में भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान ने सबसे पहले लाल भिंडी विकसित की थी, इसलिए लाल भिंडी को काशी की लाल भी कहा जाता है। अब इसके बीज अन्य जगहों पर भी मिलने लगे हैं। लाल भिंडी की फसल तैयार होने में 45-50 दिन लगते हैं। अब इसकी खेती उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा और दिल्ली में की जा रही है।
व्यस्त।

साल में दो फसल ले सकते हैं
लाल भिंडी की खेती हरी भिंडी के समान होती है। बलुई दोमट मिट्टी इसकी खेती के लिए बेहतर मानी जाती है। इसका pH मान 6.5-7.5 के बीच होना चाहिए। लाल भिंडी की दो फसलें एक वर्ष में ली जा सकती हैं। इसकी एक एकड़ में 20 क्विंटल तक उपज हो सकती है। लाल भिंडी की लंबाई 6-7 इंच तक रहती है। इसे फरवरी-मार्च और जून-जुलाई में बोया जा सकता है। लाल भिंडी के पौधों के लिए दिन में 5-6 घंटे धूप जरूरी है।

यह भी पड़े Mahindra ने लॉन्च किया XUV300 का sportz अवतार, जानिए इसकी कीमत और फीचर्स

kheti samachar :आज ही करे लाल भिंडी की खेती और कमाए लाखो रूपये,जाने कैसे करे इसकी खेती

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में उपयोगी
लाल भिंडी में एंथोसाइन पाया जाता है। इसमें फाइबर और आयरन की मात्रा अधिक होती है। इससे न केवल शरीर को ऊर्जा मिलती है, बल्कि यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी सहायक है। अपने लाल रंग के कारण यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। वैज्ञानिक इसे पकाने की बजाय सलाद के रूप में खाने की सलाह देते हैं।

कितनी फायदेमंद है लाल भिंडी की खेती
लाल भिंडी की कीमत हरी भिंडी की तुलना में काफी अधिक होती है। हरी भिंडी भी 40-50 रुपये किलो में मिलती है। वहीं लाल भिंडी 500 रुपये किलो तक आसानी से बिक जाती है। कई बार तो इसकी कीमत 800 रुपए किलो तक भी पहुंच जाती है।

आपको बता दें कि एक एकड़ जमीन से करीब 40 से 50 क्विंटल लाल भिंडी की कटाई की जा सकती है। इसकी खेती में ज्यादा खर्च भी नहीं आता है। ऐसे में लाल भिंडी की खेती बहुत फायदेमंद होती है और इसकी खेती से अच्छी आमदनी हो सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़े