Nano Dap Liquid :अब किसानो को नहीं झेलना पड़ेगा खाद की कमी की किल्लत, 500 ml की बोतल में मिलेगी 50kg dap की ताकत पैदावार भी ज्यादा

Nano Dap Liquid :अब किसानो पर नहीं पड़ेगा बोझ, 500 ml की बोतल में 50 kg DAP की शक्ति ऐसे करे प्रयोग ज्यादा होगी उपज। इफको के पास Nano Urea Liquid and Nano DAP के लिए 20 साल का पेटेंट है। यूरिया का उत्पादन जारी है। हालांकि डीएपी मार्च 2023 से शुरू होगा। Nano Liquid डीएपी न केवल किसानों को बचाएगा बल्कि उत्पादकता भी बढ़ाएगा।

ये भी पढ़िए :Maruti Suzuki:अब 5लाख से भी कम में पूरा होगा आप का 7सीटर फैमली कार खरीदने का सपना माइलेज और फीचर्स जान दंग रह जाओंगे

Nano Dap Liquid :अब किसानो को नहीं झेलना पड़ेगा खाद की कमी की किल्लत, 500 ml की बोतल में मिलेगी 50kg dap की ताकत पैदावार भी ज्यादा

Nano Liquid

Indian Farmers Fertilizer Cooperative Limited Nano DAP and Urea

भारत कृषि क्षेत्र में बहुत सफल रहा है। दुनिया के शीर्ष 300 सहकारी केंद्रों में शुमार Indian Farmers Fertilizer Cooperative Limited ने नैनो डीएपी और यूरिया के लिए पेटेंट हासिल कर लिया है। अगले साल से किसानों को नैनो डीएपी मिलना शुरू हो जाएगा।

Nano DAP and Urea

यह न केवल पारंपरिक डीएपी की तुलना में किफायती होगा बल्कि यह पर्यावरण को भी अनुमति देगा और पौधों के लिए बेहतर होगा। नैनो यूरिया के बाद भारत ने भी (नैनो डीएपी) जीता। जो काम कोई देश नहीं कर सकता वो काम भारतीय वैज्ञानिक कर रहे हैं। यह वैश्विक उर्वरक उद्योग में गेम चेंजर साबित होगा। इफको सिर्फ नैनो डीएपी पर ही नहीं रुक रहा है। यह नैनो जिंक और नैनो कॉपर को भी बढ़ाता है।

Nano Dap Liquid :अब किसानो को नहीं झेलना पड़ेगा खाद की कमी की किल्लत, 500 ml की बोतल में मिलेगी 50kg dap की ताकत पैदावार भी ज्यादा

नैनो यूरिया का उत्पादन पहले से ही किया जा रहा है
नैनो डीएपी कृषि आदानों की लागत को कम करके भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूत करेगा। डॉ. इफको के प्रबंध निदेशक डे शंकर अवस्थी ने इस उपलब्धि पर संतोष व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कॉपीराइट 20 साल के लिए प्राप्त किया गया था।

Nano Liquid

Nano DAP and Urea

Nano DAP तरल यूरिया लाइनों में 500-500 ml की बोतल में भी होगा। यानी अब 50 किलो के DAP Bag की जगह किसानों को बाजार में 500 एमएल की ही बोतलें मिलेंगी। इससे देखभाल करना आसान हो जाएगा। यात्रा खर्च कम होगा। इससे किसानों को फायदा होगा। नैनो डीएपी को इफको के Nano Biotechnology Research Center द्वारा भी विकसित किया गया था।


यहाँ उत्पादन होगा will produce here
नैनो डीएपी का उत्पादन इफको की गुजरात में Kalol Extension Unit, Kandla Unit and Odisha में Paradip Unit द्वारा किया जाएगा।

Nano Liquid : अब किसानो पर नहीं पड़ेगा बोझ, 500 ml की बोतल में 50 kg DAP की शक्ति ऐसे करे प्रयोग ज्यादा होगी उपज

तीनों इकाइयों में प्रतिदिन 500 एमएल नैनो डीएपी की 2-2 लाख बोतलें तैयार की जाएंगी।

Production will start in March 2023 at the IFFCO expansion unit in Kalol.
Production will start in July 2023 at Paradip, Odisha.
Production will start in August 2023 at Kandla, Gujarat.

इफको डीएपी फील्ड टेस्ट पूरा हुआ। इसे अब उर्वरक नियंत्रण आदेश से जोड़ा गया है।

नैनो फर्टिलाइजर के विकास पर 3000 करोड़ लगाए जाएंगे
नैनो फर्टिलाइजर के विकास पर करीब 3000 रुपये खर्च किए जाएंगे। इनमें से 720 करोड़ बांटे गए। Amla, Phulpur, Kalol (Extension), Bangalore, Paradip, Kandla, Deoghar and Guwahati में IFFCO Nano Urea, Nano DAP and Nano Micronutrients Production Units स्थापित करने का काम चल रहा है। किसानों के लिए बहुत जल्दी उपलब्ध होने के लिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़े