Friday, October 7, 2022
Homeस्पोर्ट्सभारत को एक और बड़ा झटका नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स से बाहर,...

भारत को एक और बड़ा झटका नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स से बाहर, चोट के कारण नहीं ले पाएंगे हिस्सा

भारत को एक और बड़ा झटका नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स से बाहर, चोट के कारण नहीं ले पाएंगे हिस्सा कॉमनवेल्थ गेम्स के शुरू होने से पहले ही भारत को बड़ा झटका लगा है. फिट न होने के कारण नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स से बाहर हो गए हैं.उन्हें हाल ही में विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के फाइनल के दौरान चोट लग गई थी. IOA के महासचिव राजीव मेहता ने बताया कि नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा नहीं लेंगे क्योंकि उनकी फिटनेस 100 प्रतिशत नहीं है. यह इवेंट 28 जुलाई से शुरू हो रही है।

20 दिन आराम करने की मिली सलाह

यह भी जाने :DOOGEE S89 Pro: आ गया स्मार्टफोन का बाप, 5 दिन का बैटरी बैकअप, कम कीमत में दमदार फीचर्स
राजीव मेहता ने कहा, ‘नीरज चोपड़ा की फिटनेस 100 प्रतिशत नहीं है और इसी कारण वो आगामी कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में हिस्सा नहीं ले सकेंगे. उन्हें 20 दिन आराम करने की सलाह दी गई है.नीरज चोपड़ा का MRI स्कैन हुआ था, जिसमें ग्रोइन इंजरी की बात पता लगी है. हाल ही में विश्व चैंपियनशिप में जैवलिन स्पर्धा में सिल्वर मेडल जीतकर इतिहास रचा था. कॉमनवेल्थ गेम्स में नीरज चोपड़ा का मैच 5 अगस्त को होना था, उसी दिन जैवलिन थ्रो का इवेंट था. अब इस फील्ड में भारत की उम्मीदें डीपी मनु और रोहित यादव से हैं. जेवलिन थ्रो में अब यह दोनों ही भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे।

2019 में चोट के चलते करियर खतरे में था

यह भी जाने :ये 5 stocks कराएंगे दमदार मुनाफा! मिल सकता है 95% तक का तगड़ा रिटर्न 

टोक्यो के बाद नीरज ने वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में मेडल जीतकर इतिहास रचा था. साल 2019 में कोहनी की इंजरी से उनका करियर खत्म होने के कगार पर था. ऑपरेशन के बाद फिर वापसी करते हुए एक बाद एक रिकॉर्ड अपने नाम पर दर्ज कराते चले गए. पहले टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड जीता. उसके बाद अमेरिका में परफॉर्मेंस की बदौलत तिरंगा लहराया।

नीरज 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स के चैंपियन भी हैं। वह इस साल अपने स्वर्ण को डिफेंड करते. हालांकि, अब ऐसा नहीं हो सकेगा. 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में नीरज ने 86.47 मीटर के थ्रो के साथ स्वर्ण अपने नाम किया था. तब उन्होंने फाइनल में छह प्रयासों में 85.50 मीटर, फाउल, 84.78 मीटर, 86.47 मीटर, 83.48 मीटर और फाउल दर्ज कराया था। उनका सबसे सफल प्रयास तीसरा प्रयास रहा था। इसी वजह से नीरज ने गोल्ड जीता था।

बहुचर्चित खबरें