Saturday, October 8, 2022
Homebreking newsNews Desk india : आखिर क्यों हो रहा हैं बंगाल में निरोध...

News Desk india : आखिर क्यों हो रहा हैं बंगाल में निरोध का विरोध, जानिए कैसे कर रहे है कंडोम से नशे

News Desk india : कंडोम के नशे में डूबे बंगाल के युवा:पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. दरअसल, यहां रहने वाले युवा इन दिनों एक अजीबोगरीब लत के शिकार हो रहे हैं। यहां के युवा कंडोम का इस्तेमाल ड्रग के तौर पर कर रहे हैं। जी हां, वैसे कंडोम का इस्तेमाल असुरक्षित यौन संबंध से बचने के लिए किया जाता है। लेकिन नशे के लिए कंडोम के इस्तेमाल से हर कोई हैरान है। एक स्थानीय दुकानदार ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में शहर में कंडोम की बिक्री में अचानक इजाफा हुआ है. कई दुकानों में स्टॉक आने के चंद घंटों में ही खत्म हो रहा है।

मिली जानकारी के मुताबिक पिछले कुछ दिनों से दुर्गापुर के कई इलाकों जैसे दुर्गापुर सिटी सेंटर, बिधाननगर और मुचीपारा, सी जोन, ए जोन में फ्लेवर्ड कंडोम की बिक्री में भारी इजाफा हुआ है. एक स्थानीय दुकानदार ने अपने यहां से बार-बार कंडोम खरीद रहे एक युवक से इसका कारण पूछा तो उसका जवाब हैरान करने वाला था। उसने दुकानदार से कहा कि वह ड्रग्स के लिए कंडोम खरीदता है। वहीं दुर्गापुर में मेडिकल स्टोर चलाने वाले एक शख्स ने बताया कि पहले कंडोम के तीन से चार पैकेट रोजाना बिकते थे, लेकिन अब पूरे पैकेट बिक रहे हैं.

यह भी पड़े DAP Rate: DAP के नए रेट हुए जारी, अब इस रेट में मिलेगी एक बोरी

दुर्गापुर के मंडल अस्पताल में काम करने वाले धीमान मंडल ने बताया कि कैसे ये युवक कंडोम का इस्तेमाल नशे के लिए कर रहे हैं. उन्होंने समझाया कि, “कंडोम में कुछ सुगंधित यौगिक होते हैं। ये शराब बनाने के दौरान टूट जाते हैं। ये नशे की लत होते हैं। ये नशे की तरह महसूस करते हैं। ये सुगंधित डेंड्राइट गोंद में भी पाए जाते हैं,” उन्होंने कहा।

यह भी पड़े Live Auto Updates: 5 लाख रुपये से भी कम कीमत में Maruti ने लॉन्च कर दी ये सस्ती SUV; यहां पढ़ें ऑटो सेक्टर से जुड़ी बड़ी खबरें

दुर्गापुर आरई कॉलेज मॉडल स्कूल में रसायन शास्त्र के शिक्षक नूरुल हक ने कहा, “कंडोम को गर्म पानी में लंबे समय तक भिगोने से नशा होता है, क्योंकि बड़े कार्बनिक अणु अल्कोहल के यौगिकों में टूट जाते हैं।” हालांकि इससे पहले भी नशे के लिए अजीबोगरीब चीजों के इस्तेमाल के मामले सामने आ चुके हैं। 21वीं सदी के मध्य में नाइजीरिया में टूथपेस्ट और जूते की स्याही की बिक्री अचानक 6 गुना बढ़ गई। इसका उपयोग नशे के लिए भी किया जाता था। फिलहाल युवाओं में इस नई लत ने बंगाल प्रशासन की चिंता भी बढ़ा दी है।

बहुचर्चित खबरें