Saturday, October 8, 2022
Homeकृषि समाचारकिसानों के लिए बड़ी खुशखबरी,DAP,NPK हुई सस्ती,देखे नए रेट

किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी,DAP,NPK हुई सस्ती,देखे नए रेट

किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी खरीफ सीजन की तैयारी करहे किसानों के लिए डीएपी और सुपर फर्टिलाइजर की काफी जरूरत है। सरकार द्वारा सेवा सहकारी संस्थाओं के माध्यम से किसानों को उर्वरकों की उपलब्धता प्रदान की जाती है। इसके अलावा खुले बाजार में खाद भी बिकती है। केंद्र सरकार ने किसानों के लिए बड़ी राहत दी है.
सरकार ने यूरिया की बढ़ती कीमत से खरीद में परेशानी का सामना कर रहे गरीब किसानों को राहत देते हुए यूरिया (डीएपी और एनपीके) की कीमत तय कर दी है। सरकार अब यूरिया के दाम नहीं बढ़ाएगी, इसके लिए नई कीमतें जारी की गई हैं। अब यूटिया (डीएपी और एनपीके) कितने में मिलेगा, क्या है इसकी नई कीमत,
केंद्र सरकार ने किसानों को दी बड़ी राहत

यह पड़े Mahindra bolero2022 :mahindra ने लांच कर दी ये धासु नई bolero दमदार फीचर्स और शानदार लुक के साथ ,जानिए कीमत ?

इस बार केंद्र सरकार ने भारत के किसानों को खटीफ सीजन 2022 से पहले ही बड़ी राहत दी है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उर्वरकों और उर्वरकों के कच्चे माल में बढ़ोतरी के बावजूद केंद्र सरकार ने किसी भी कीमत पर खाद के दाम नहीं बढ़ाए हैं। इस खरीफ सीजन में

आपको बता दें कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रासायनिक उर्वरकों और उर्वरकों की कीमतों में बढ़ोतरी के बाद भी भारत सरकार की उर्वरक कंपनी इफको ने देश में उर्वरकों की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया है.
उर्वरकों के दाम स्थिर रखने पर कंपनियों को सब्सिडी देना

यह भी पड़े PMEGP Loan Yojana 2022:बेरोजगारों के लिए सुनहरा अवसर सरकार दे रही है 25 लाख रूपए ,जानिए कैसे करे आवेदन

केंद्र सरकार ने इस बार डीएपी और एनपीके आधारित उर्वरकों की कीमतों को स्थिर रखने के लिए कंपनियों को सब्सिडी देने का फैसला किया था। यही कारण है कि इस समय के बाद उर्वरकों की कीमतों में कोई वृद्धि नहीं हुई है। केंद्र सरकार ने इस खतीफ सीजन के लिए 60 हजार 939 करोड़ रुपये जारी किए थे. जिसे आईटा वर्ष थरीफ सीजन में लागू किया गया है।
भारतीय कंपनी इफको (इफको) ने इस खरीफ सीजन के लिए उर्वरकों और उर्वरकों की नई कीमतें जारी की हैं। अलग-अलग बोटी पर किसानों को अलग-अलग कीमत नीचे दी गई है।

यह भी जानिए :Urea Dap Rate: किसानो को लिए खुशखबरी डीएपी के साथ यूरिया के दामों में भी होने लगी कमी ,यहाँ देखे Dap Urea के नए रेट

  • यूरिया – 266.50 रुपये प्रति बोतल (45 किलो),
  • एमओपी- 1,700 रुपये प्रति नाव (50 किलो)।
  • डीएपी – 1,350 रुपये प्रति नाव (50 किलो),
  • एनपीके 1,470 रुपये प्रति बोतल (50 किलो)

हालांकि, यूक्रेन और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध के कारण उर्वरकों और उर्वरकों के निर्माण में इस्तेमाल होने वाले कच्चे माल की कीमतों में वृद्धि हुई है। जिससे कई देशों में उर्वरकों और उर्वरकों के दाम आसमान छू रहे हैं। देश में भी उर्वरकों के दाम बढ़ाने का दबाव था। लेकिन सरकार ने सब्सिडी बढ़ाकर किसानों को बड़ी राहत दी है.

यह भी पड़े Kheti Samachar : किसानो के लिए बड़ी खुशखबरी 3 लाख रुपये तक के कर्ज पर मिली छुट की मंजूरी
बिना सब्सिडी के रहेगी यह कीमत

  • यूरिया 2,450 रुपये प्रति बोतल (45 किलो),
  • एनपीके 3,291 रुपये प्रति बोरी (50 किलो),
  • एमओपी- 2,654 रुपये प्रति बोतल (50 किलो),
  • डीएपी – 4,073 रुपये प्रति बोतल (50 किलो)

पूरे देश में खाद उर्वरक की कितनी आवश्यकता है?

खरीफ और रबी मौसम में विभिन्न प्रकार की फसलों के लिए विभिन्न प्रकार की खाद/उर्वरक की आवश्यकता होती है। देश के किसान कृषि में अधिक उत्पादन के लिए यूरिया का सबसे अधिक उपयोग करते हैं। देश में कितनी खाद की जरूरत है?

तो आपको बता दें कि पिछले साल के हिसाब से हम जान सकते हैं कि देश में कितनी खाद/उर्वरक की जरूरत है। पिछले वर्ष के अनुसार देश में यूरिया की आवश्यकता 350.51 लाख टन, एनपीके 12582 लाख टन, एमओपी 34.32 लाख टन और डीएपी 119.18 लाख टन थी।
किसान उठा सकते हैं योजना का लाभ

यह भी पड़े CCTV Camera : आज ही अपने घर लगाए ये दमदार क़्वालिटी वाला ये CCTV Camera ,24 घंटे करेगा घर की निगरानी कम खर्चे में हो जायेगा फिट

यह पड़े Viral Photos : पाकिस्तानी एक्ट्रेस ने की Boldness की सारी हदे पार, ये है पाकिस्तान की सबसे बोल्ड एक्ट्रेस

बागवानी विभाग घुलनशील उर्वरकों की खरीद पर बागवानी किसानों को सीधे 50% सब्सिडी का लाभ दे रहा है। एक किसान को दस हजार रुपये तक की जई की खाद खरीदने पर लाभ दिया जा रहा है। कोई भी बागवानी किसान जो घुलनशील खाद पर इस योजना के तहत 50 प्रतिशत सब्सिडी का लाभ लेना चाहता है। उस प्रखंड को बिल की प्रति उद्यान विकास कार्यालय में जमा करनी होगी.
किसानों के लिए बागवानी विभाग भी फसलों पर सब्सिडी देकर किसानों का उत्साहवर्धन कर रहा है। अब विभाग ने बागवानी फसलों के लिए घुलनशील खाद पर 50 प्रतिशत अनुदान देने का सीधा फैसला लिया है. बागवानी विभाग सभी बागवानी फसलों के लिए एक किसान को दस हजार रुपये की घुलनशील खाद पर 50% तक की सब्सिडी देगा।

बहुचर्चित खबरें