Tuesday, September 27, 2022
HomebusinessGoat Farming : सरकार तरफ से मिल रही इस योजना से बकरी...

Goat Farming : सरकार तरफ से मिल रही इस योजना से बकरी पालन हुआ और भी आसान, जाने क्या सुविधाएं मिलेगी

Goat Farming : सरकार तरफ से मिल रही इस योजना से बकरी पालन हुआ और भी आसान, जाने क्या सुविधाएं मिलेगी बकरी पालन एक लाभदायक व्यवसाय बन गया है। इसके लिए सरकार की ओर से सहायता भी दी जाती है। बहुत कम लोग हैं जो जानते हैं कि बकरी पालन व्यवसाय शुरू करने के लिए सरकार द्वारा ऋण और बीमा कवर दिया जाता है। बकरी पालन व्यवसाय की खास बात यह है कि इसे कम लागत में शुरू किया जा सकता है। इस व्यवसाय में बकरी के खाने-पीने की आवश्यकताएं अन्य जानवरों के पालन-पोषण की तुलना में काफी सस्ती हैं। इसके अलावा इसे ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में कम जगह से भी शुरू किया जा सकता है। यही कारण है कि बकरी पालन व्यवसाय बहुत लोकप्रिय हो रहा है। अगर आप इस बिजनेस को शुरू करना चाहते हैं और आपके पास पैसा नहीं है तो चिंता की कोई बात नहीं है। इसके लिए आपको सरकार की योजनाओं के तहत आसानी से लोन मिल जाएगा। आज हम आपको ट्रैक्टर जंक्शन के माध्यम से बकरी पालन पर लोन की जानकारी और उससे जुड़ी जरूरी बातों की जानकारी दे रहे हैं ताकि आप इसका लाभ उठा सकें।

बता दें कि बकरी पालन के लिए विभिन्न बैंक कर्ज देते हैं। इसके साथ ही कई बैंक बीमा कवर का लाभ भी देते हैं। इसके लिए सरकारी संस्था नाबार्ड के तहत ऋण भी उपलब्ध है। बकरी पालन के लिए कर्ज देने में नाबार्ड सबसे आगे है। यह एक ऐसी संस्था है, जो बेहद आकर्षक दरों पर कर्ज मुहैया कराती है। बता दें कि नाबार्ड ग्रामीण क्षेत्र के विकास के लिए निरंतर कार्य करता है, इसलिए नाबार्ड विभिन्न बैंकों के सहयोग से ग्रामीण क्षेत्रों में बकरी पालन के लिए ऋण देता है. इसके अलावा राष्ट्रीय पशुधन मिशन के तहत बकरी पालन के लिए सब्सिडी का लाभ भी प्रदान किया जाता है। इससे आपको सस्ता बैंक लोन मिलता है।

ये बैंक देते हैं बकरी पालन का कर्ज
व्यावसायिक बैंक
क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक
राज्य सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक
राज्य सहकारी बैंक
शहरी बैंक
अन्य बैंक जो नाबार्ड से जुड़े हैं
बकरी पालन ऋण पर नाबार्ड से कितनी सब्सिडी मिलती है
नाबार्ड द्वारा विभिन्न प्रकार की पशुधन योजनाएँ चलाई जाती हैं, जिनका मुख्य उद्देश्य छोटे और सीमांत किसानों की मदद करना है। नाबार्ड बैंकों और ऋण देने वाली संस्थाओं के माध्यम से बकरी पालन ऋण प्रदान करता है। नाबार्ड के तहत बकरी पालन के लिए ऋण पर अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति वर्ग के लाभार्थियों को 33 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती है। वहीं सामान्य वर्ग सहित अन्य लोगों को 25 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती है, जिसकी अधिकतम सीमा 2.5 लाख रुपये है।

बकरी पालन के लिए कितना लोन मिल सकता है
बैंक से 20 बकरियों पर 5 लाख रुपये तक का कर्ज लिया जा सकता है। इस योजना के तहत गांव में रहने वाले जो लोग बकरी पालन के व्यवसाय से जुड़े हैं, वे बैंक में अपने सभी आवश्यक दस्तावेज देकर आसानी से बकरी पालन व्यवसाय शुरू कर सकते हैं और इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। हालांकि बकरी पालन के लिए बैंकों द्वारा कम से कम 50 हजार रुपये का कर्ज अधिकतम 50 लाख रुपये तक दिया जाता है। कर्ज की यह रकम अलग-अलग बैंकों ने अपने हिसाब से तय की है।

यह भी पढ़े : पैन कार्ड की तरह अब आधार से लिंक होगा वोटर आईडी, देखिये कैसे करे लिंक

10 बकरियों पर मिल सकता है 4 लाख रुपये का कर्ज
बैंकों को 10 बकरियों पर 4 लाख रुपये तक का कर्ज मिल सकता है। बकरी पालन योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले उन लोगों को बकरी पशुपालन ऋण प्रदान किया जाएगा जो अपना नया बकरी पालन व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं।

बकरी पालन के लिए ऋण कैसे प्राप्त करें
बकरी पालन ऋण लेने के लिए सबसे पहले आप अपने नजदीकी बैंक या पशुपालन केंद्र में जा सकते हैं। वहां से आप अपनी बकरियों की देखभाल के लिए ऋण के लिए आवेदन कर सकते हैं और बकरी पालन योजना के तहत एक नई बकरी खरीद सकते हैं। बकरी पालन ऋण देने के लिए बैंक आपके व्यवसाय की परियोजना रिपोर्ट, आईटीआर नींद, आधार कार्ड, पैन कार्ड, बैंक खाता संख्या, पिछले 6 महीनों के बैंक विवरण को सत्यापित करने के बाद ही ऋण राशि प्रदान करेगा। यदि आप बैंक द्वारा निर्धारित पात्रता मानदंडों को पूरा करने में सक्षम नहीं हैं, तो आपको यह ऋण प्राप्त करने में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है।

एसबीआई बकरी पालन ऋण योजना
भारतीय स्टेट बैंक बकरी पालन पर ऋण सुविधा भी प्रदान करता है। इसके लिए आपको एक परफेक्ट बिजनेस प्लान पेश करना होगा। बैंक द्वारा आपको दी जाने वाली योजना में क्षेत्र, स्थान, बकरी की नस्ल, प्रयुक्त उपकरण, कार्यशील पूंजी निवेश, बजट, विपणन रणनीति, श्रम आदि के आधार पर ऋण दिया जाता है। आवेदक द्वारा पात्रता शर्तों को पूरा करने के बाद एसबीआई आवश्यकता के अनुसार ऋण राशि स्वीकृत करेगा। एसबीआई गारंटी के तौर पर जमीन के कागजात पेश करने के लिए कह सकता है। आवेदक की प्रोफाइल के आधार पर ब्याज दर भिन्न हो सकती है। इसके अलावा आपको प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत पशुपालन से जुड़े विभिन्न व्यवसाय शुरू करने के लिए भी ऋण मिलेगा। बता दें कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से मुद्रा लोन के तहत 1 लाख रुपये से लेकर 10 लाख रुपये तक के बिजनेस लोन मिलते हैं।

आईडीबीआई बकरी पालन ऋण योजना
आप बकरी पालन के लिए आईडीबीआई बैंक के माध्यम से कृषि वित्त भेड़ और बकरी पालन योजना के तहत बकरी पालन के लिए ऋण के लिए आवेदन कर सकते हैं। आईडीबीआई बैंक की इस योजना के तहत न्यूनतम ऋण राशि 5 लाख रुपये है। वहीं, अधिकतम 50 लाख रुपये तक का लोन लिया जा सकता है। यह इस बात पर निर्भर करेगा कि आपके खेत में कितनी बकरियां हैं और आप एक साल में कितनी बकरियों को बदलते हैं।

बकरी पालन के लिए आप अपनी नजदीकी फाइनेंस कंपनी, सरकारी बैंक, प्राइवेट बैंक, स्मॉल फाइनेंस बैंक आदि से बकरी पालन लोन ले सकते हैं। इसके अलावा आप आईडीबीआई बैंक, मुद्रा लोन अंडर पीएमएमवाई फॉर गॉट फार्मिंग स्कीम के तहत भी अप्लाई कर सकते हैं।

यह भी पढ़े : सपना चौधरी की लव स्टोरी किसी फ़िल्मी स्टोरी से काम नहीं, जानिए कैसे हुयी इनके लव स्टोरी की शुरुवात

बकरी पालन के लिए ऋण के लिए आवश्यक दस्तावेज
बकरी पालन के लिए लोन लेने के लिए आपको जिन दस्तावेजों की आवश्यकता होगी, वे इस प्रकार हैं।

आवेदक का आधार कार्ड
आवेदक के 4 पासपोर्ट साइज फोटो
पिछले छह महीनों का बैंक स्टेटमेंट
आवेदक के निवास का पता
आवेदक का आय प्रमाण पत्र
बीपीएल कार्ड, यदि उपलब्ध हो
जाति प्रमाण पत्र, यदि एससी / एसटी / ओबीसी वर्ग से संबंधित है।
आवेदक का अधिवास प्रमाण पत्र
बकरी पालन परियोजना रिपोर्ट
भूमि रजिस्ट्री दस्तावेज

बकरी पालन ऋण के लिए पात्रता और शर्तें
बकरी पालन के लिए ऋण की पात्रता और शर्तें भी निर्धारित की गई हैं, जो इस प्रकार हैं।

बकरी पालन ऋण के लिए आपके पास पशु चराने के लिए 0.25 एकड़ जमीन उपलब्ध होनी चाहिए। अगर आपके पास जमीन नहीं है तो आप किसी की जमीन किराए पर लेकर बैंक से करार के रूप में भी कर्ज के लिए आवेदन कर सकते हैं।
आवेदक संबंधित राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए। जिन किसानों को भेड़, बकरी पालन का अनुभव है, उन्हें इस योजना का लाभ दिया जाएगा।
इस योजना में महिलाओं, अनुसूचित जाति और आदिवासी किसानों को प्राथमिकता दी जाएगी।
योजना के तहत केवल उन्हीं किसानों को ऋण दिया जाएगा जो पारंपरिक चरवाहा परिवार से हैं।आवेदन करने वाले व्यक्ति की उम्र 18 से 65 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
ग्रामीण बेरोजगारों को बकरी पालन बिजनेस शुरू करने के लिए इस योजना के तहत प्राथमिकता दी जाएगी।

बहुचर्चित खबरें