Tuesday, September 27, 2022
Homeधर्म विशेषHartalika Teej 2022 : वैवाहिक जीवन से जुड़ी सभी परेशानी होगी दूर...

Hartalika Teej 2022 : वैवाहिक जीवन से जुड़ी सभी परेशानी होगी दूर ,हरतालिका तीज पर करें ये उपाय

Hartalika Teej 2022 : हिंदू कैलेंडर के अनुसार हरतालिका तीज हर साल भाद्रपद माह की तृतीया को मनाई जाती है। इस दिन विवाहित महिलाएं व्रत रखती हैं और भगवान शंकर और माता पार्वती की पूजा करती हैं। ऐसा माना जाता है कि हरतालिका तीज का व्रत रखने वाली और विधि-विधान से पूजा करने वाली विवाहित महिलाओं पर मां पार्वती प्रसन्न होती हैं और उन्हें अखंड सौभाग्यवती का सौभाग्य प्राप्त होता है। वहीं हरतालिका तीज का व्रत रखने वाली अविवाहित कन्याओं को योग्य वर की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं कब है हरितालिका तीज का व्रत और कैसे करें शिव पार्वती की पूजा वैवाहिक जीवन से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए?


हरतालिका तीज शुभ मुहूर्त 2022: भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि 29 अगस्त की शाम 03.20 बजे से शुरू हो रही है जो अगले दिन यानी 30 अगस्त को दोपहर 03.33 बजे तक रहेगी. हरतालिका तीज का व्रत जन्म तिथि के अनुसार 30 अगस्त को रखा जाएगा. इस दिन यह प्रातः 06:05 से प्रातः 08:38 तक रहेगा। वहीं शुभ मुहूर्त सुबह 06:33 से रात 08:51 तक

विवाह में देरी के लिए यदि किसी लड़की का विवाह समय पर नहीं हो पाता है और परिवार के सदस्य विवाह को लेकर चिंतित हैं तो हरतालिका तीज के दिन पार्थिव शिवलिंग बनाकर 21 बेलपत्र चढ़ाएं। इसके बाद देवी कात्यायनी के विवाह मंत्र का जाप करें- ‘कात्यायिनी महामये महायोगिनीधिश्वरी नंद गोपसुतम देवी पतिं में कुरु ते नमः’। इसके बाद अविवाहित कन्याओं को मीठा भोजन कराकर वस्त्र दान करें। ऐसा करने से योग्य वर की प्राप्ति होती है और शीघ्र ही संबंध विवाह के लिए आ जाते हैं।

यह भी पड़े किसान भाइयो के लिए खुशखबरी DAP खाद में आयी भरी गिरावट जानिए नए रेट,

दाम्पत्य जीवन में प्यार बढ़ाने के लिए
पति-पत्नी के रिश्ते को मजबूत करने के लिए अगर पति-पत्नी के बीच हमेशा विवाद रहता है तो हरतालिका तीज के दिन विवाहित महिलाओं को 16 चीजें अलंकरण की भेंट चढ़ानी चाहिए। माता पार्वती। . साथ ही इस दिन अपने पति को मांग में सिंदूर भरवाएं और शहद की चीजों को अपने पति के हाथों में धारण करें. हरतालिका तीज के दिन पति-पत्नी को मिलकर देवी पार्वती और भगवान शंकर को खीर चढ़ाकर यह प्रसाद ग्रहण करना चाहिए। ऐसा करने से पति-पत्नी के बीच प्रेम बढ़ता है और दांपत्य जीवन सुखमय रहेगा।

बहुचर्चित खबरें