Friday, October 7, 2022
Homebreking newsIndia export: जुलाई में देश के निर्यात में आया मामूली उछाल, व्यापार...

India export: जुलाई में देश के निर्यात में आया मामूली उछाल, व्यापार घाटा 3 गुना बढ़ा

India export: देश का निर्यात जुलाई में 2.14 फीसदी बढ़कर 36.27 अरब डॉलर. व्यापार घाटा 3 गुना बढ़कर 30 बिलियन डॉलर रहा. आयात सालाना आधार पर 43.61 फीसदी बढ़कर 66.27 अरब डॉलर रहा.

India export in July: देश का निर्यात जुलाई में 2.14 फीसदी बढ़कर 36.27 अरब डॉलर हो गया. वहीं कच्चे तेल की कीमतों में 70 फीसदी की वृद्धि के कारण व्यापार घाटा इसी महीने में लगभग तीन गुना होकर 30 अरब डॉलर पहुंच गया. जुलाई 2021 में व्यापार घाटा 10.63 अरब डॉलर था. शुक्रवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, जुलाई महीने में आयात सालाना आधार पर 43.61 फीसदी बढ़कर 66.27 अरब डॉलर हो गया. इस महीने की शुरूआत में जारी प्रारंभिक आंकड़ों में जुलाई के दौरान निर्यात 0.76 फीसदी घटकर 35.24 अरब डॉलर रहने का अनुमान लगाया गया था. जुलाई 2021 में यह 35.51 अरब डॉलर था.

चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जुलाई अवधि के दौरान निर्यात 20.13 फीसदी बढ़कर 157.44 अरब डॉलर हो गया. जबकि इन चार महीनों के दौरान आयात 48.12 फीसदी बढ़कर 256.43 अरब डॉलर पर पहुंच गया. इस अवधि के दौरान व्यापार घाटा भी बढ़कर 98.99 अरब डॉलर पर आ गया. एक साल पहले इसी अवधि में यह 42 अरब डॉलर था।

यह भी जाने : 64MP कैमरा और दमदार रैम के साथ इस दिन भारत में आएगा Vivo V25 Pro, लॉन्च के पहले यहां जानिए सभी धांसू फीचर्स

क्रूड ऑयल और पेट्रोलियम प्रोडक्ट के आयात में 70 फीसदी उछाल

इस साल जुलाई में कच्चे तेल और पेट्रोलियम उत्पादों का आयात 21.13 अरब डॉलर रहा, जो जुलाई 2021 में 12.4 अरब डॉलर की तुलना में 70.4 फीसदी अधिक है. आंकड़ों के अनुसार, पिछले महीने कोयले, कोक और ब्रिकेट (कोयले के चूरे को लेकर बनाया गया ब्लॉक) का आयात दो गुना से अधिक बढ़कर 5.2 अरब डॉलर हो गया, जबकि वनस्पति तेल का आयात 47.18 फीसदी बढ़कर दो अरब डॉलर हो गया.

गोल्ड इंपोर्ट में 43.6 फीसदी की गिरावट

सोने का आयात 43.6 फीसदी घटकर 2.37 अरब डॉलर रहा जो जुलाई 2021 में 4.2 अरब डॉलर था. इंजीनियरिंग सामान, पेट्रोलियम उत्पाद, रत्न एवं आभूषण और दवा का निर्यात जुलाई 2022 में सालाना आधार पर घटा है. निर्यात के मोर्चे पर जिन क्षेत्रों में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की गयी है, उनमें पेट्रोलियम उत्पाद, चमड़ा, इलेक्ट्रॉनिक सामान और कॉफी शामिल हैं. वहीं इंजीनियरिंग, रत्न एवं आभूषण, प्लास्टिक, काजू तथा कालीन में गिरावट आई।

यह भी जाने : ₹3000 के निवेश पर कितना मिलेगा पैसा? PPF में इन्वेस्टमेंट आपको कितना रिटर्न देगा? चेक करें पूरी कैलकुलेशन

निर्यात में नरमी के संकेत

आंकड़ों के अनुसार, जुलाई 2022 के लिए सेवाओं के निर्यात का अनुमानित मूल्य 24.91 अरब डॉलर रहा. यह सालाना आधार पर 28.69 फीसदी अधिक है. वहीं, आयात 15.95 अरब डॉलर रहने का अनुमान है, जो 40.02 फीसदी अधिक है. भारतीय निर्यात संगठनों के महासंघ (फियो) के अध्यक्ष ए शक्तिवेल ने कहा कि निर्यात में संभावित नरमी के संकेत देखे जा सकते हैं. वैश्विक स्तर पर पिछला माल बहुत सारा बचा हुआ है. वस्तु निर्यात के समक्ष कई चुनौतियां हैं.

महंगाई से खरीद क्षमता पर असर

उन्होंने कहा, ‘‘कोविड -19 महामारी के बाद अर्थव्यवस्थाओं के खुलने के साथ वस्तुओं से सेवाओं की खपत में फिर से बदलाव आया है. महंगाई ने सभी अर्थव्यवस्थाओं को प्रभावित किया है, जो लोगों की खरीद क्षमता कम करती है. इसके कारण कई अर्थव्यवस्थाओं में मंदी की स्थिति बनी रही है. जबकि कुछ विकसित अर्थव्यवस्थाएं पहले से ही मंदी की चपेट में हैं.’’

बहुचर्चित खबरें