Saturday, October 8, 2022
Homeदान पुण्यभाद्रपद अमावस्या : स्नान व दान के लिए भाद्रपद अमावस्या का यह...

भाद्रपद अमावस्या : स्नान व दान के लिए भाद्रपद अमावस्या का यह समय बना शुभ अवसर ,आपको देगा लाभ

भाद्रपद अमावस्या:भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को भाद्रपद अमावस्या या भादो की अमावस्या कहा जाता है। हिंदू धर्म में पितृ पक्ष से पहले पड़ने वाली इस भाद्रपद अमावस्या का बहुत महत्व माना जाता है। इस दिन दान और पूजा करना बहुत अच्छा माना जाता है। इसके साथ ही पितृ दोष, काल सर्प दोष जैसे कुंडली के कई दोषों के कारण होने वाले कष्टों से छुटकारा पाना भी आवश्यक है। इस वर्ष भाद्रपद अमावस्या 27 अगस्त 2022 को पड़ रही है।

भाद्रपद अमावस्या पर बन रहा है शिव योग
भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि 26 अगस्त शुक्रवार को दोपहर 12:22 से शुरू होकर शनिवार 27 अगस्त को दोपहर 01:47 बजे तक रहेगी. उदय तिथि के आधार पर भाद्रपद अमावस्या 27 अगस्त को मानी जाएगी. , केवल शनिवार। इस वर्ष भाद्रपद अमावस्या के दिन अत्यंत शुभ माने जाने वाला शिव योग बन रहा है। इस दिन शिव योग होगा जो 28 अगस्त को दोपहर 02:06 बजे तक रहेगा। शिव योग में किए गए उपासना-उपायों से कई गुना फल मिलता है।

भाद्रपद अमावस्या के उपाय
पितृ दोष दूर करने का उपाय भाद्रपद अमावस्या का दिन पितृ दोष को दूर करने के लिए बहुत ही उत्तम होता है। इस दिन पवित्र नदियों में कुशा घास मिश्रित जल में तर्पण करने से पितरों को प्रसन्नता होती है। इसके साथ ही पितृ दोष के कारण होने वाली समस्याएं जैसे विवाह में प्रगति-बाधा, आर्थिक तंगी आदि।

यह भी पड़े Arbaaz Khan Girl Friend: ट्रांसपेरेंट ड्रेस में मचाया तहलका ,अरबाज खान की गर्लफ्रेंड ने कर दी सारी हदें पार

कालसर्प दोष दूर करने का उपाय :

काल सर्प दोष जीवन में अनेक दुखों का कारण बनता है। इस दोष के कारण व्यक्ति न तो उन्नति कर पाता है और न ही उसके पास धन होता है। ऐसे में भाद्रपद अमावस्या के दिन चांदी के नागों और नागों को शिव मंदिर में चढ़ाएं या नदी में प्रवाहित करें. इससे कालसर्प दोष दूर होगा।

बहुचर्चित खबरें