Navratri 2022: इस नवरात्री रखे इन सभी बातो का विशेष ध्यान वरना नहीं होगी पूजा सफल

Navratri 2022: मां आदिशक्ति की आराधना का पर्व नवरात्रि 26 सितंबर से शुरू हो रहा है. इसका समापन 5 अक्टूबर को होगा। भक्त नवरात्रि का बेसब्री से इंतजार करते हैं। इस दौरान वह पूरे नौ दिनों तक पूरी श्रद्धा के साथ मां भगवती के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा करते हैं। लोगों ने नवरात्रि की तैयारियां शुरू कर दी हैं। मां के विभिन्न रूपों की पूजा करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ता है। ऐसा न करने से पूजा सफल नहीं मानी जाती और मां का आशीर्वाद नहीं मिलता।

Navratri 2022: इस नवरात्री रखे इन सभी बातो का विशेष ध्यान वरना नहीं होगी पूजा सफल

विधिवत पूजा

अक्सर लोग नवरात्रि में व्रत रखते हैं। वहीं कई लोग व्रत भी नहीं रख पाते हैं। ऐसे में वह पूजा भी नहीं करते हैं। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि व्रत न करने पर भी मां की पूजा की जा सकती है. हालांकि इस दौरान पूजा सही तरीके से करनी चाहिए।

दूर्वा घास

अक्सर लोग पूजा में दूर्वा घास का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन नवरात्रि में मां आदिशक्ति की पूजा के दौरान तुलसी या दूर्वा घास नहीं चढ़ाते। ऐसा करने से पूजा का पूरा फल नहीं मिलता है। नवरात्रि में पूजा स्थल के दोनों दरवाजों पर स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं। इसके लिए रोली या कुमकुम का प्रयोग करें।

यह भी पड़े Auto Mobile :आरही हे देश में सबसे ज्यादा माइलेज देने वाली ये SUV कार, जानिए कब होगी लॉन्च

दुर्गा सप्तशती पाठ

नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती का पाठ अवश्य करें। इसके साथ ही कवच, कीलक अर्गला का पाठ भी करना चाहिए। यदि अध्याय 1 से 13 तक प्रतिदिन नहीं पढ़ा जाता है तो प्रतिदिन कम से कम एक वर्ण का पाठ करें।

फलों का आनंद

नवरात्रि में प्रतिदिन मां शक्ति को भोग के रूप में फल चढ़ाएं। इन फलों को चढ़ाने के बाद कन्याओं में बांटें। इसके साथ ही कन्याओं को मां दुर्गा के स्वरूप के रूप में पूजें और उन्हें अवश्य खिलाएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़े