Friday, September 30, 2022
Homebreking newsकेरल में लड़कियो के साथ हुआ ये गंदा काम ,NEET देने पहुंचीं...

केरल में लड़कियो के साथ हुआ ये गंदा काम ,NEET देने पहुंचीं लड़कियों के इनरवियर उतरवाए:

केरल में 17 जुलाई को NEET एंट्रेंस एग्जाम सेंटर पजांच के नाम पर कुछ लड़कियों के इनरवियर उतरवाए जाने को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। 17 साल की एक लड़की के पिता ने इस मामले में शामिल लोगों के खिलाफ FIR दर्ज करवाई है।
राष्ट्रीय महिला आयोग ने मामले को लेकर NEET कराने वाली NTA और केरल पुलिस को नोटिस जारी किया है। वहीं केरल स्टेट ह्यूमन राइट्स कमीशन ने भी इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं। केरल के कई युवा संगठनों ने घटना के जिम्मेदार लोगों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए विरोध प्रदर्शन किए हैं।
खबरें और भी हैं…
आखिर क्या है NEET परीक्षा के लिए बनाया गया ड्रेस कोड और क्या उसमें इनरवियर को लेकर भी नियम हैं?
पहले समझिए क्या है पूरा विवाद?
केरल के कोल्लम जिले में 17 जुलाई को NEET परीक्षा आयोजित हुई थी। इस दौरान कोल्लम जिले के मार्तोमा इंस्टीट्यूट ऑफ इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (MIIT) में जांच के नाम पर लड़कियों के इनरवियर उतरवाए जाने को लेकर विवाद खड़ा हो गया।
ये मामला परीक्षा के अगले दिन 18 जुलाई को तब सामने आया, जब 17 साल की एक लड़की के पिता ने मीडिया से कहा कि अपना पहला NEET एग्जाम दे रही उनकी बेटी को परीक्षा से पहले जांच के दौरान इनरवियर उतारने को मजबूर किया गया। इससे उनकी बेटी को 3 घंटे लंबी परीक्षा में बिना इनरवियर के बैठना पड़ा।
लड़की के पिता ने मीडिया से कहा कि उनकी बेटी ने NEET बुलेटिन में बताए गए ड्रेस कोड के अनुसार कपड़े पहने थे, जिसमें इनरवियर के बारे में कुछ नहीं कहा गया है।
चेन्नई में 17 जुलाई को आयोजित हुई NEET-UG में परीक्षा केंद्र के बाहर एक फीमेल कैंडिडेट अपनी ईयररिंग उतारती हुई। NEET की गाइडलाइंस के मुताबिक, परीक्षा में ईयररिंग पहनने की इजाजत नहीं है। (फोटो साभार: PTI)
चेन्नई में 17 जुलाई को आयोजित हुई NEET-UG में परीक्षा केंद्र के बाहर एक फीमेल कैंडिडेट अपनी ईयररिंग उतारती हुई। NEET की गाइडलाइंस के मुताबिक, परीक्षा में ईयररिंग पहनने की इजाजत नहीं है। (फोटो साभार: PTI)
पीड़ित लड़की के पेरेंट्स ने दर्ज कराई FIR
इस मामले में 17 साल की एक लड़की के पिता ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। कोल्लम के SP केबी रवि ने इस मामले में लड़की के पेरेंट्स द्वारा शिकायत दर्ज कराए जाने की पुष्टि की है।
अपनी शिकायत में लड़की के पेरेंट्स ने आरोप लगाया है कि जांच के दौरान कई लड़कियों को इनरवियर उतारने के लिए मजबूर किया गया और इन इनरवियर को एक स्टोररूम में फेंक दिया गया था।
लड़की के पिता ने कहा कि सिक्योरिटी जांच के बाद मेरी बेटी से कहा गया कि उसके इनरवियर के हुक को मेटल डिटेक्टर में डिटेक्ट किया गया है, इसलिए उसे इनरवियर को उतारने के लिए कहा गया।
पुलिस को दी अपनी शिकायत में लड़की के पिता ने कहा है कि उनकी बेटी ने सुरक्षा जांच के बाद अन्य लड़कियों से उतरवाए गए इनरवियर से भरा एक बॉक्स देखा था। जो एक कमरे में फेंका हुआ था। कई लड़कियां रो रही थीं और मानसिक रूप से प्रताड़ित महसूस कर रही थीं।
पुलिस ने IPC की धारा 354 (महिला की लज्जा भंग करने के इरादे से उस पर हमला या आपराधिक बल प्रयोग) और धारा 509 (शब्द, हावभाव या कार्य जिसका उद्देश्य किसी महिला की लज्जा का अपमान करना है) के तहत केस दर्ज कर लिया है।
केरल में NEET देने गई लड़कियों की जांच के दौरान इनरवियर उतारने के विवाद को लेकर FIR दर्ज कराने वाली लड़की के पिता का कहना है कि उनकी बेटी ने बताया कि करीब 90% फीमेल कैंडिडेट्स के इनरवियर उतरवाए गए थे और उन्हें एक स्टोर रूम में रखा गया था। परीक्षा देते समय कैंडिडेट्स इस बात से मानसिक रूप से परेशान थीं। (प्रतीकात्मक तस्वीर)
केरल में NEET देने गई लड़कियों की जांच के दौरान इनरवियर उतारने के विवाद को लेकर FIR दर्ज कराने वाली लड़की के पिता का कहना है कि उनकी बेटी ने बताया कि करीब 90% फीमेल कैंडिडेट्स के इनरवियर उतरवाए गए थे और उन्हें एक स्टोर रूम में रखा गया था। परीक्षा देते समय कैंडिडेट्स इस बात से मानसिक रूप से परेशान थीं। (प्रतीकात्मक तस्वीर)
इस खबर में आगे बढ़ने से पहले एक पोल में हिस्सा लेते हैं…
इस विवाद से मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम यानी NEET परीक्षा के ड्रेस कोड को लेकर नई बहस छिड़ गई है। चलिए जानते हैं कि आखिर क्या है NEET का ड्रेस कोड…
1.क्या NEET का कोई ड्रेस कोड है?
हां, नेशनल एलिजिबिलिटी-कम-एंट्रेंस टेस्ट यानी NEET के इन्फॉर्मेशन ब्रॉशर 2022 में परीक्षा में शामिल होने वाले महिला और पुरुष कैंडिडेट्स के ड्रेस कोड की जानकारी दी गई है। साथ ही इसमें परीक्षा में नहीं ले जा सकने वाले यानी प्रतिबंधित सामानों की भी लिस्ट है।
2.क्या है NEET का ड्रेस कोड?
लंबी बांह वाले हल्के कपड़े पहनने की अनुमति नहीं है।
चप्पल और कम हील वाली सैंडिल पहनने की अनुमति है। जूते पहनने की अनुमति नहीं है।
अगर कैंडिडेट्स एग्जामिनेशन सेंटर पर सांस्कृतिक या रिवाज वाले कपड़ों में आते हैं, तो उन्हें रिपोर्टिंग टाइम से कम से कम एक घंटे पहले इसकी जानकारी देनी होगी।
आवश्यक परिस्थितियों (जैसे-मेडिकल) के कारण किसी छूट के मामले में, एडमिट कार्ड जारी होने से पहले नेशनल टेस्टिंग एजेंसी यानी NTA से विशेष मंजूरी लेनी होगी।
3.NEET के लिए कौन सी चीजें प्रतिबंधित लिस्ट में हैं?
टेक्स्ट मटेरियल (छपा या लिखा हुआ), पेंसिल, बॉक्स, प्लास्टिक पाउच, पेन, कैलकुलेटर, स्केल, राइटिंग पैड, पेन ड्राइव, इरेजर और लॉग टेबल ले जाने की इजाजत नहीं है।
कोई भी कम्यूनिकेशन डिवाइस जैसे- मोबाइल फोन, ईयरफोन, ब्लूटूथ, पेजर, माइक्रोफोन और हेल्थ बैंड्स भी प्रतिबंधित हैं।
अन्य सामान जैसे पर्स, चश्मे, हैंडबैग, बेल्ट और टोपी नहीं पहन सकते हैं।
कोई भी घड़ी, ब्रेसलेट, कैमरा भी परीक्षा केंद्र में नहीं ले जा सकते हैं।
कोई भी खाने का खुला या पैक्ड सामान, पानी की बोतल।
कोई भी अन्य सामान जिसका इस्तेमाल अनुचित गतिविधियों के लिए किया जा सकता है। जैसे-माइक्रोचिप, कैमरा, ब्लूटूथ जैसी छिपी हुई कम्यूनिकेशन डिवाइसेज।
कोई भी गहने/मेटेलिक आइटम्स यानी धातु की चीजें।
4.क्या NEET की एडवाइजरी में मेटेलिक हुक का जिक्र है?
नहीं, NEET की एडवाइजरी में किसी तरह के ‘गहने/मेटेलिक चीजों’ पर रोक तो है, लेकिन एडवाइजरी में ये नहीं कहा गया है कि मेटेलिक हुक वाले कपड़ों पर भी प्रतिबंध है। केरल में लड़कियों से इनरवियर कथित तौर पर उनकी ब्रा में मेटेलिक हुक होने की वजह से ही उतरवाए गए थे।
5.क्या कैंडिडेट्स की तलाशी की इजाजत है?
हां, एडवाइजरी में कहा गया है कि कैंडिडेट्स की अनिवार्य रूप से ‘बेहद सेंसिटिव मेटल डिटेक्टर्स’ के जरिए गहन तलाशी यानी frisking की जाएगी। प्रतिबंधित सामानों को किसी भी परिस्थिति में परीक्षा केंद्र के अंदर ले जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी।’ एडवाइजरी के मुताबिक, महिला कैंडिडेट्स की तलाशी बंद घेरे में केवल महिला स्टाफ ही करेंगीं।
खबरें और भी हैं…

बहुचर्चित खबरें