किसानो के लिए महाबचत का मौका PM Kisan Samridhi Kendra से खाद-उर्वरक खरीदने पर मिलेगा 4000 रुपए का फायदा

किसानो के लिए महाबचत का मौका PM Kisan Samridhi Kendra से खाद-उर्वरक खरीदने पर मिलेगा 4000 रुपए का फायदा केंद्र की मोदी सरकार किसानों के आर्थिक विकास के लिए अपना संपूर्ण योगदान प्रदान कर रही है। किसानों को कृषि क्षेत्र से जुड़े सामान और जानकारी समय पर मिले इसके लिए भारत सरकार समय-समय पर कृषि सम्मेलनों का आयोजन करती है। इन कृषि आयोजनों के माध्यम से केंद्र सरकार किसान समृद्धि के लिए कई तरह के सेवा केंद्रों का उद्घाटन एवं योजना का लाभ भी देती है।

READ ALSO-Tata की ये ‘काली चिड़िया’ देगी Creta को टक्कर, सेफ्टी फीचर्स में XUV 700 को छोड़ा पीछे, देखे कम कीमत में बम फीचर्स

किसानो के लिए महाबचत का मौका PM Kisan Samridhi Kendra से खाद-उर्वरक खरीदने पर मिलेगा 4000 रुपए का फायदा

इसी क्रम में केंद्र की मोदी सरकार ने किसानों को खाद, बीज, खेती से जुड़े उपकरण, मिट्टी की टेस्टिंग और विभिन्न प्रकार की खेती से जुड़ी जानकारी एक ही छत के नीचे प्रदान करने के लिए पीएम किसान समृद्धि केंद्र योजना का शुभारंभ किया गया है। ताकि खेती से जुड़े जरूरत के सामान और जानकारी प्राप्त करने के लिए किसानों को इधर-उधर न जाना पड़े। इसके अलावा किसानों को इन केंद्रों पर इफको की तरफ से खाद-उर्वरक की बोरी पर 4,000 रुपए का दुर्घटना बीमा का लाभ भी दिया जायेगा। ट्रैक्टरगुरु के इस लेख में हम आपकों पीएम किसान समृद्धि केंद्र से जुड़ा संपूर्ण ब्यौरा देने जा रहे है।   

Launch of more than 600 PM Kisan Samridhi Kendras across the country देशभर में 600 से ज्यादा पीएम किसान समृद्धि केंद्रों का शुभारंभ 

बता दें कि किसानों को पहले खेती से जुड़े सामान और जानकारी प्राप्त करने के लिए अलग-अलग दुकानों और सेवा केंद्रों पर जाना पड़़ता था। जिससें  उनके समय और श्रम दोनों व्यर्थ होते थें और कृषि कार्यों में देरी भी हो जाती थी, जिससे उनके उत्पादन पर प्रभाव पड़ता था। इन्ही समस्याओं को ध्यान में रखते हुए हाल ही में नई दिल्ली स्थित आईसीएआर-भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, पूसा मेला ग्रांउड में आयोजित किसान सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देशभर में 600 से ज्यादा पीएम किसान समृद्धि केंद्रों का शुभारंभ किया गया है। इन किसान समृद्धि केंद्रों पर किसानों को खाद के साथ-साथ बीज, कीटनाशक, कृषि उपकरण, मृदा जांच व खेती से जुड़ी अनेकों तरह की जानकारी एक ही ​प्लेटफार्म पर मिलेगी। 

image 54

Farmers will get all facilities on a single platform एक ही ​प्लेटफार्म पर किसानों को सारी सुविधाएं मिलेंगी

जानकारी के लिए बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम किसान सम्मान सम्मेलन उद्घाटन करते हुए देश में समृद्धि केंद्रों का शुभारंभ किया है। साथ ही इस आयोजन में देश के 3.3 लाख से ज्यादा खुदरा उर्वरक दुकानों को पीएम किसान समृद्धि केंद्रों में बदलने की घोषणा भी की गई थी। इन किसान समृद्धि केंद्रों पर किसानों के लिए सिर्फ उर्वरक खरीद और बिक्री का केंद्र नहीं है, यह एक संपूर्ण रूप से किसान के साथ घनिष्ठ नाता जोड़ने वाला, उसकी हर आवश्यकता में मदद करने वाला केंद्र है। इन केंद्रों पर आने वाले ग्राहक किसानों को उर्वरकों के लिए दुर्घटना बीमा का लाभ भी दिया जा रहा है।

Accident insurance of four thousand rupees will be available on fertilizers उर्वरकों पर मिलेगा चार हजार रुपए का दुर्घटना बीमा

इफको की तरफ से खाद-उर्वरक की बोरी की खरीद पर 4,000 रुपए का दुर्घटना बीमा किसानों हो दिया जा रहा है। इसके लिए किसानों को इन केंद्रो से खाद-उर्वरक खरीदने के बाद पॉक्स मशीन से पक्का बिल दिया जाता है। दुर्घटना या किसी भी प्रकार की जोखिम होने पर किसान इस बिल को जमा करवाकर 4,000 रुपये तक का बीमा भुगतान ले सकता है। इतना ही नहीं, कृषि-किसान से जुडी घटनाओं के लिए दुर्घटना बीमा के तहत 1 लाख रुपये तक का बीमा कवर दिया जाता है, जबकि इससे पहले किसानों को बीमा कंपनियों और बैंकों के चक्कर काटने पड़ते थे।  

READ ALSO-DAP New Rate: रबी की फसलों के लिए DAP खाद के नए रेट में हुआ बड़ा बदलाव , अब इस रेट में मिलेगी खाद की बोरिया

There will also be a chance to connect with experts at Kisan Samridhi Kendras किसान समृद्धि केंद्रों पर एक्सपर्ट्स से जुड़ने का मौका भी मिलेगा

किसानों को प्रधानमंत्री किसान समृद्धि केंद्रों पर एक ही जगह खाद, बीज, उर्वरक, कीटनाशक और दूसरे कृषि संसाधन उपलब्ध होगे। इन केंद्रों पर कृषि आदानों की खरीद के साथ-साथ कृषि योजनाओं की जानकारी और मिट्टी की जांच की सुविधा भी मिलेगी। इसी के साथ-साथ इन किसान समृद्धि केंद्रों पर एक्सपर्ट्स के साथ जुड़ने का मौका भी मिलेगा। इन समृद्ध केंद्रों के माध्यम से किसानों के लिये गोष्ठी और कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा, जिसमें कृषि विज्ञान केंद्र एवं एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञ सलाह व परामर्श देंगे। हर 15 दिन या एक महीने में एक बार कृषि विशेषज्ञों से जुड़ने और शंका समाधान करने के लिए एक बार कृषि कार्यक्रम का भी आयोजित किया जाएंगा।

image 52

Will prove effective in preventing hoarding of fertilizers खाद-उर्वरक की जमाखोरी रोकने में कारगर साबित होगी

पीएम किसान समृद्धि केंद्र को शुरूआत एक ही प्लेटफॉर्म पर किसानों को सभी कृषि सेवायें प्रदान करने के उद्देश्य से की गई है। किसानों को एक ही छत के नीचे उर्वरक, खाद, बीज, कीटनाशक खरीदने के साथ-साथ कई तरह की फार्म इक्विपमेंट, मशीनरी आदि भी किराए पर लेने की सुविधा प्रदान की जाएगी। केंद्र सरकार द्वारा संचालित एक राष्ट्र एक उर्वरक योजना के तहत बिकने वाला फर्टिलाइजर भी सभी किसान समृद्धि केंद्र पर उपलब्ध होगा। यहां से किसान आसानी से भारत ब्रांड का फर्टिलाइजर खरीद सकेंगे। बता दें कि पिछले कुछ सालों में बढ़ती उर्वरकों की मांग ने इसके अवैध व्यापार और दुकानदार की खाद-उर्वरक जमाखोरी ने सरकार एवं  किसानों के लिए एक चुनौतीपूर्ण समस्या खड़ी कर दी थी। दूसरी तरफ किसानों में ​जागरूकता की कमी के कारण किसानों के शोषण की घटनायें भी बढ़ रही थीं। ऐसी स्थिति में पीएम किसान समृद्धि केंद्र की शुरुआत खाद- उर्वरक की कालाबाजारी को रोकने एवं किसानों को जागरूक करने में एक कारगर पहल साबित होगी।

New agricultural techniques, information and facilities will be given नई कृषि तकनीकों जानकारी एवं सुविधा दी जाएंगी

पीएम किसान समृद्धि केंद्रों पर किसानों को वैज्ञानिक खेती के साथ-साथ नई कृषि तकनीकों के बारे में जानकारी दी जा रही है। वरिष्ठ सरकारी अधिकारी, नीति निर्माता, उद्योग के दिग्गज, वैज्ञानिक अपने- अपने विचारों से किसानों का मार्ग दर्शन करेंगे। इन केंद्रों पर ना सिर्फ किसानों को कुछ नया सीखने के लिए प्रेरित किया जाएंगा। और खेती की चुनौतियों का हल तथा खेती में भविष्य के अवसरों को खोजने का मार्ग भी बताएया जायेगा। वहीं, भविष्य में कई केंद्रों पर ड्रोन से कीटनाशक और उर्वरकों के छिड़काव की सुविधा भी दी जायेगी। ये सुविधा निशुल्क मुहैया करवाने की योजना है, जिससे किसान भी सीधा उर्वरक-कीटनाशकों के हानिकारक ​केमिकल के संपर्क में आने से बचेंगे। किसानों की समस्याओं को हल करने के ​लिए अधिकारी और कृषि संसाधनों की मांग को पूरा करने के लिये अधिक संख्या में कर्मचारियों की नियुक्ति भी इन केंद्रों पर की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़े