Friday, September 30, 2022
HomebusinessLife Insurance : Insurance खरीदने वाले दे ध्यान सरकार उठा सकती है ये...

Life Insurance : Insurance खरीदने वाले दे ध्यान सरकार उठा सकती है ये कदम, जानिये क्या सावधानी रखे

Life Insurance : Insurance खरीदने वाले दे ध्यान सरकार उठा सकती है ये कदम, जानिये क्या सावधानी रखे मंत्रालय बीमा अधिनियम, 1938 की व्यापक समीक्षा कर रहा है और इस क्षेत्र के विकास के लिए कुछ उपयुक्त परिवर्तन करना चाहता है। यह प्रक्रिया अभी प्रारंभिक चरण में है।

बीमा पॉलिसी : देश में कई तरह के बीमा हैं। इनमें चिकित्सा बीमा और जीवन बीमा काफी लोकप्रिय हैं। हालांकि, अब वित्त मंत्रालय देश में बीमा की पहुंच बढ़ाने के लिए बीमा कानूनों में बदलाव पर विचार कर रहा है। इनमें न्यूनतम पूंजी आवश्यकता को कम करने का प्रस्ताव भी शामिल है। देश में बीमा की पैठ 2019-20 में 3.76 प्रतिशत से बढ़कर 2020-21 में 4.20 प्रतिशत हो गई है। यह 11.70 प्रतिशत की वृद्धि के लिए काम करता है। बीमा पैठ में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है, जिसे मुख्य रूप से COVID-19 महामारी के कारण सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के अनुपात के रूप में बीमा प्रीमियम के प्रतिशत के रूप में मापा जाता है।

यह भी पढ़े :  भोजपुरी एक्ट्रेस अक्षरा सिंह का ये फोटोशूट देख हो जाओगे हैरान, देखे फोटोज

उचित परिवर्तन हो सकता है
सूत्रों ने कहा कि मंत्रालय बीमा अधिनियम, 1938 की व्यापक समीक्षा कर रहा है और इस क्षेत्र के विकास के लिए कुछ उपयुक्त बदलाव करना चाहता है। उन्होंने कहा कि यह प्रक्रिया अभी शुरुआती चरण में है। सूत्रों ने कहा कि मंत्रालय बीमा कारोबार शुरू करने के लिए न्यूनतम पूंजी की जरूरत को 100 करोड़ रुपये से कम करना चाहता है। न्यूनतम पूंजी आवश्यकता को कम करने से विभिन्न प्रकार की कंपनियां बैंकिंग क्षेत्र की तरह बीमा व्यवसाय में प्रवेश कर सकेंगी।

बीमा तक पहुंच में वृद्धि

सूत्रों ने बताया कि इस प्रावधान में ढील देकर क्षेत्रीय उन्मुखीकरण वाली सूक्ष्म बीमा, कृषि बीमा और बीमा कंपनियां भी बीमा कारोबार में उतर सकेंगी। सूत्रों ने कहा कि नए खिलाड़ियों के आने से न केवल बीमा की पहुंच बढ़ेगी बल्कि रोजगार भी पैदा होगा। सरकार ने पिछले साल बीमा अधिनियम में संशोधन कर बीमा कंपनी में विदेशी हिस्सेदारी की सीमा 49 फीसदी से बढ़ाकर 74 फीसदी कर दी थी।

यह भी पढ़े : पितृ पक्ष का समापन होगा महालया अमावस्‍या, जानिये  पितरों के लिए श्राद्ध, पिंड दान, तर्पण आदि कैसे करे

खुल जाएगा निजीकरण

इसके अलावा, संसद ने सामान्य बीमा व्यवसाय (राष्ट्रीयकृत) संशोधन विधेयक, 2021 पारित किया है। इससे सरकार किसी बीमा कंपनी में अपनी हिस्सेदारी को 51 प्रतिशत से कम इक्विटी पूंजी पर ला सकती है। इससे निजीकरण का रास्ता खुलेगा।

बहुचर्चित खबरें