Friday, October 7, 2022
Homebank newsRBI Update : फिर बढ़ेगी लोन की EMI? रेपो रेट में 0.50% तक...

RBI Update : फिर बढ़ेगी लोन की EMI? रेपो रेट में 0.50% तक हो सकता है इजाफा, कल आएगी पॉलिसी 

RBI Update : भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) की बैठक आज (3 अगस्‍त) से शुरू हो गई. आज एमपीसी बैठक का दूसरा दिन है. रिजर्व बैंक गवर्नर शक्तिकांत दास (RBI Governor Shaktikanta Das) 5 अगस्त को पॉलिसी का एलान करेंगे. महंगाई दर और दुनियाभर के सेंट्रल बैंकों के रुख को देखते हुए यह माना जा रहा है कि रिजर्व बैंक एक बार फिर रेपो रेट में बढ़ोतरी कर सकता है. बाजार के जानकारों का मानना है कि रेपो रेट 0.35 फीसदी से 0.50 फीसदी के बीच बढ़ सकता है. RBI अगर ब्‍याज दरें, बढ़ाता है, तो बैंकों के तमाम लोन महंगे हो जाएंगे. इसका असर होम लोन (Home Loan), कार लोन (Car Loan) और पर्सनल होन (Personal Loan) की EMI पर पड़ेगा. इसका मतलब कि लोन रिपेमेंट के लिए आपको अपने से ज्‍यादा मंथली किस्‍त देनी पड़ सकती है।

मुख्‍य अर्थशास्‍त्री, महिंद्रा एंड महिंद्रा

”आगामी पॉलिसी समक्षा में रिजर्व बैंक रेपो रेट में 40 बेसिस प्‍वाइंट का इजाफा कर सकता है. ऐसा इसलिए क्‍योंकि महंगाई लगातार उच्‍च स्‍तर पर बनी हुई है और लगातार छठें महीने एमपीसी के कम्‍फर्ट  लेवल से उपर है. यूएस फेड की तरफ से ब्‍याज दरों में 75 बेसिस प्‍वाइंट बढ़ोतरी के बाद रिजर्व बैंक इस साल तीसरी बार ब्‍याज दरें बढा सकता है.” 

मॉनेटरी पॉलिसी में RBI का फोकस रिटेल महंगाई पर खासतौर से रहेगा. रिटेल महंगाई जून में 7.01 फीसदी पर दर्ज की गई. सरकार ने रिजर्व बैंक को रिटेल महंगाई को 4 फीसदी पर लाने का लक्ष्‍य दिया है. इसमें 2 फीसदी कम/ज्‍यादा हो सकता है।

श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस कंपनी के एमडी एंड सीईओ उमेश रेवानकर का कहना है कि अगस्‍त 2022 की पॉलिसी समीक्षा में एमपीसी एकमत से ब्‍याज दरों में 35 बेसिस प्‍वाइंट बढ़ाने पर फैसला कर सकती है. ऐसा इसलिए क्‍योंकि पिछली पॉलिसी के मुकाबले घरेलू मैक्रो-इकोनॉमी में कुछ ज्‍यादा बदलाव नहीं हुआ है

यह भी जाने : सौतेले पिता का मिलेगा बच्चे को सरनेम, मां को है तय करने का अधिकार, समझिए सरनेम से जुड़ा कानून

रेपो रेट 35-50bps बढ़ा सकता है RBI: एडलवाइज सिक्‍युरिटीज

इक्विटी रिसर्च फर्म एडलवाइज सिक्‍युरिटीज का मानना है कि रिजर्व बैंक अगस्‍त पॉलिसी समीक्षा में रेपो रेट में 35-50 बेसिस प्‍वाइंट की बढ़ोतरी कर सकता है. आरबीआई दुनिया के अन्‍य केंद्रीय बैंकों की तरह ब्‍याज दरों पर फैसला लेगा. साउथ कोरिया, ताइवान, मैक्सिको, ईसीबी समेत कई अन्‍य सेंट्रल बैंकों ने सख्त पॉलिसी का रास्‍ता अपनाया है. ऐसे में उम्‍मीद है कि रिजर्व बैंक भी ब्‍याज दरों पर सख्‍ती बनाए रखेगा।

35-40 bps बढ़ सकती हैं ब्‍याज दरें: शिशिर बैजल

नाइट फ्रैंक इंडिया के सीएमडी शिशिर बैजल का कहना है कि, उपभोक्‍ता महंगाई अभी भी ज्‍यादा है. हालांकि इसमें क्रूड ऑयल जैसे कुछ अहम कम्‍पोनेंट्स में सुधार आया है. लिक्विडिटी और एक्‍सपेंडिचर को को नियंत्रित करना रिजर्व बैंक की प्राथमिकताा है. ऐसे में हमारा मानना है कि आरबीआई पॉलिसी ब्‍याज दरों में एक बार फिर इजाफा करेगा. केंद्रीय बैंक रेपो रेट में 35-40 बेसिस प्‍वाइंट का इजाफा कर सकता है।

रेपो रेट 0.50% बढ़ सकता है: CareEdge

रेटिंग एजेंसी केयरएज का मानना है कि आरबीआई वित्त वर्ष 23 के शेष अवधि में रेपो रेट में 100 बेसिस प्‍वाइंट्स यानी 1 फीसदी का इजाफा कर सकता है. यह FY23 के अंत तक टर्मिनल रेट को 5.90% तक ले जाएगा, जबकि अभी रिटेल महंगाई दर करीब 7% है. केयरएज की मुख्य अर्थशास्त्री रजनी सिन्हा ने कहना है, ”कई कमोडिटी की कीमतों में नरमी के साथ, रिटेल महंगाई दर टॉप पर है और इसके Q4FY23 तक 6% से नीचे आने की उम्मीद है. अगस्‍त की मॉनेटरी पॉलिसी में रिजर्व बैंक रेपो दर में 50 बेसिस प्‍वाइंट का इजाफा कर सकता है. केंद्रीय बैंक वित्तीय वर्ष के अंत तक रेपो रेट 5.90% तक ले जाएगा.”  

देश की आर्थिक सेहत बेहतर: RBI

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने हाल ही में देश की इकोनॉमिक सेहत को लेकर कहा कि दूसरे देशों के मुकाबले भारत का रुपया बेहतर स्थिति में हैं. दास ने इमर्जिंग मार्केट के अन्य देशों और एडवांस इकोनॉमी वाले देशों से तुलना करते हुए कहा कि भारतीय रुपया (Rupee vs Dollar) अपेक्षाकृत अच्छी पकड़ बना रहा है. हाल ही में डॉलर के मुकाबले घलेलू मुद्रा 80 के रिकॉर्ड लेवल को पार कर गया है, जिस पर दास ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) रुपये में उतार-चढ़ाव को लेकर जीरो टॉलरेंस रखता है और कहा कि केंद्रीय बैंक स्थिति को बेहतर करने के लिए काम किया है।

यह भी जाने : Nokia C21 Plus की सेल शुरू, कम कीमत में मिलेगी 3 दिन की बैटरी लाइफ

Bofa Securities: 0.35 फीसदी की बढ़ोतरी संभव

बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज (Bofa Securities) ने अपनी हाल की एक रिपोर्ट में कहा कि RBI इस बार नीतिगत रुख में बदलाव करते हुए इसे “calibrated tightening” कर  ब्याज दरों में इजाफा करेगा. पिछले दो पॉलिसी बैठक में RBI ने महंगाई को काबू में करने के लिए ब्याज दरों में कुल 0.90 फीसदी का इजाफा किया है. आरबीआई इस बार रेपो रेट में 0.35 फीसदी की बढ़ोतरी कर सकता है।

2022 में दो बार बढ़ा रेपो रेट

लगातार बढ़ रही महंगाई पर काबू पाने के लिए रिजर्व बैंक ने इस साल दो बार रेपो रेट में बढ़ोतरी की है. आरबीआई ने इस साल सबसे पहले मई में रेपो रेट में 0.40 फीसदी की बढ़ोतरी की गई थी, जबकि जून में फिर 0.50 फीसदी रेपो रेट बढ़ाया. रेपो रेट अभी 4.90 फीसदी पर है. रेपो रेट वह ब्‍याज दरें होती हैं, जिस पर आरबीआई बैंकों को लोन देता है।

MPC: बैठक आज से, महंगाई कंट्रोल करने पर फोकस

रिजर्व बैंक की मॉनेटरी पॉलिसी कमिटी की बैठक आज से शुरू हो रही है. आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास 5 अगस्‍त को पॉलिसी का एलान करेंगे. एक्‍सपर्ट मान रहे हैं कि RBI का फोकस फिलहाल महंगाई कंट्रोल करने पर है. ऐसे में केंद्रीय बैंक एक बार फिर रेपो रेट में बढ़ोतरी कर सकता है।

बहुचर्चित खबरें