Sunday, September 25, 2022
HomeदेशSCO Summit 2022 : भारतीय नागरिको में उत्साह की लहर पीएम मोदी...

SCO Summit 2022 : भारतीय नागरिको में उत्साह की लहर पीएम मोदी को उज्बेकिस्तान में मिलेगा यह सम्मान, जानिए कब मिलेगा

SCO Summit 2022 : भारतीय नागरिको में उत्साह की लहर पीएम मोदी को उज्बेकिस्तान में मिलेगा यह सम्मान पीएम मोदी शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए उज्बेकिस्तान जा रहे हैं। सम्मेलन गुरुवार को उज्बेकिस्तान के समरकंद में होगा, जो कोविड महामारी के कारण दो साल के अंतराल के बाद प्रत्यक्ष उपस्थिति सम्मेलन होगा।

उज्बेकिस्तान में पीएम मोदी: पीएम मोदी के उज्बेकिस्तान दौरे को लेकर वहां रहने वाले भारतीय समुदाय में खासा उत्साह है। ताशकंद में भारतीय समुदाय के संगठन इंडिया क्लब ने उज्बेकिस्तान में भारतीय राजदूत के जरिए पीएम मोदी को तोहफा भेजा है। क्लब ने सम्मान के प्रतीक के रूप में उज़्बेक वॉल कार्पेट पर पीएम मोदी का चित्र भेजा है।

इंडिया क्लब द्वारा जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया है, “इंडिया क्लब ताशकंद ने आज उज्बेकिस्तान में रहने वाले 1800 भारतीयों की ओर से सम्मान के रूप में उज़्बेक दीवार कालीन पर आपकी तस्वीर पेंट करवा दी है।” आपसे विनम्र निवेदन है कि इस छोटे से उपहार को स्वीकार करें। इंडिया क्लब का गठन दस साल पहले हुआ था। इसका मकसद उज्बेकिस्तान में रह रहे भारतीयों को एक मंच पर जोड़ना है।

यह भी पढ़े : मलाइका ने इस फैशनेबल स्टाइल में किया फोटोशूट, लोग देखते ही रह गए

समरकंद में होगा एससीओ सम्मेलन
आपको बता दें कि पीएम मोदी शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए उज्बेकिस्तान जा रहे हैं। सम्मेलन गुरुवार को उज्बेकिस्तान के समरकंद में होगा, जो कोविड महामारी के कारण दो साल के अंतराल के बाद प्रत्यक्ष उपस्थिति सम्मेलन होगा।

एससीओ का पिछला सीधा सम्मेलन 2019 में किर्गिस्तान के बिश्केक में आयोजित किया गया था। उसके बाद 2020 में मास्को सम्मेलन को विभाजित -19 महामारी के कारण डिजिटल प्रारूप में आयोजित किया गया था, जबकि 2021 का सम्मेलन दुशांबे में मिश्रित प्रारूप में आयोजित किया गया था।

भारत SCO का पूर्णकालिक सदस्य है
SCO की शुरुआत जून 2001 में शंघाई में हुई थी। इसमें छह संस्थापक सदस्यों सहित आठ पूर्णकालिक सदस्य हैं। संस्थापक सदस्य देश चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान और उजबेकिस्तान हैं। भारत और पाकिस्तान 2017 में इसके पूर्णकालिक सदस्य के रूप में शामिल हुए।

यह भी पढ़े : RBI ने दी जानकारी क्रेडिट और डेबिट कार्ड रखने वालों को झटका 1 अक्टूबर से होगा ये बदलाव

एससीओ के पर्यवेक्षक देशों में अफगानिस्तान, बेलारूस और मंगोलिया शामिल हैं, जबकि संवाद भागीदार कंबोडिया, नेपाल, श्रीलंका, तुर्की, आर्मेनिया और अजरबैजान हैं।

मोदी, शरीफ, पुतिन जिनपिंग एक ही सम्मेलन में शामिल होंगे
साल 2020 में कोविड महामारी फैलने के बाद यह पहला मौका है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ, चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन दो दिवसीय सम्मेलन में हिस्सा लेंगे।

जिनपिंग के अचानक शामिल होने की घोषणा
कोविड की चिंताओं को छोड़कर एससीओ सम्मेलन में चिनफिंग के भाग लेने की अचानक घोषणा हो गई। बुधवार को, वह दो साल से अधिक समय में पहली बार चीन से बाहर गए। वह जनवरी 2020 के बाद अपनी पहली राजकीय यात्रा पर कजाकिस्तान गए और वहां से समरकंद में एससीओ शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए उज्बेकिस्तान गए।

बहुचर्चित खबरें