Share Market Tips : आप भी शेयर मार्केट में निवेश करते है तो, काम में आएगी ये बसंत माहेश्वरी की टिप्स

Share Market Tips

Share Market Tips : आप भी शेयर मार्केट में निवेश करते है तो, काम में आएगी ये बसंत माहेश्वरी की टिप्स शेयर बाजार में लोग लंबी अवधि के लिए भी पैसा लगाते हैं, वहीं शॉर्ट टर्म के लिए भी पैसा लगाते हैं। हालांकि दोनों में से कौन बेहतर है?

बसंत माहेश्वरी पोर्टफोलियो : लोग शेयर बाजार में इस इरादे से निवेश करते हैं कि उन्हें लाभ हो। हालांकि शेयर बाजार से मुनाफा कमाना इतना आसान नहीं है। कई बार बाजार में ऐसी स्थिति भी आ जाती है जब डाउनट्रेंड का सामना करना पड़ता है। ऐसे में बाजार में मौजूद बड़े से बड़े निवेशक का भी पोर्टफोलियो गड़बड़ा जाता है. वहीं कुछ निवेशक लॉन्ग टर्म के इरादे से आते हैं, लेकिन बाजार में घबराहट का माहौल देखकर शॉर्ट टर्म में अपने शेयर बेचकर निकल जाते हैं। ऐसे में मार्केट एक्सपर्ट बसंत माहेश्वरी ने बताया है कि मार्केट में शॉर्ट टर्म इनवेस्टमेंट और लॉन्ग टर्म इनवेस्टमेंट के अप्रोच में क्या अंतर है।

यह भी पढ़े : 100KM से भी ज्यादा माइलेज वाली बाइक, इन त्योहारों पर मिलेगी भरी छूट ये हैं 4 बेस्ट ऑप्शन

शॉर्ट टर्म बनाम लॉन्ग टर्म

बसंत माहेश्वरी वेल्थ एडवाइजर्स एलएलपी के सह-संस्थापक बसंत माहेश्वरी ने अपने नवीनतम समाचार पत्र ‘क्या लगता है’ श्रृंखला में कहा है कि शेयर बाजार में शॉर्ट टर्म निवेश या लॉन्ग टर्म निवेश दोनों ही निवेशकों के माध्यम से किए जाते हैं। हालांकि दोनों का रिटर्न भी अलग है।

भावना और भावनाएं

बसंत माहेश्वरी ने शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म में अंतर बताया है। उनका कहना है कि कम समय में बाजार उस बच्चे की तरह होता है जो घर में और आसपास होने वाले हर शोर से डर जाता है। लंबी अवधि में, बाजार एक वयस्क की तरह व्यवहार करता है। अल्पावधि में बाजार की धारणा अलग हो सकती है। हालांकि, जब मन में लंबी अवधि का विचार होता है, तो अल्पकालिक भावनाएं दूर हो जाती हैं।

यह भी पढ़े : जानिए अपने हाथ की रेखाओ के बारे में,अगर ऐसी हो ‘विवाह रेखा’ तो 2 शादियों का संकेत देती हैं

यह प्रभावी है

बसंत माहेश्वरी का कहना है कि लंबी अवधि के लिए निवेश करने के लिए इक्विटी बहुत अच्छी संपत्ति है। हालांकि, इसके दैनिक मूल्यांकन को प्रभावित करने वाले सभी कारक अल्पकालिक हैं। एक अच्छी कंपनी के लिए ऐसे कारक केवल कुछ दिनों के लिए मेहमान होते हैं और फिर कंपनी की गति फिर से ऊंचाइयों की ओर बढ़ जाती है। ऐसे में लंबी अवधि का निवेश ज्यादा कारगर होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़े