Saturday, October 8, 2022
Homeauto mobileIT सेक्टर में दिख रहा मंदी का असर:नौकरियां कम करने लगीं अमेजन,...

IT सेक्टर में दिख रहा मंदी का असर:नौकरियां कम करने लगीं अमेजन, एपल, गूगल जैसी कंपनियां; मेटा ने इंजीनियरों की भर्ती का प्लान 30% कम किया

कोरोना महामारी के बाद दशकों की सबसे ज्यादा महंगाई के चलते दुनिया को अब मंदी का डर सताने लगा है। टेक्नोलॉजी से जुड़ी कंपनियों के लिए पिछले 5-6 महीने काफी बुरे साबित हुए हैं। इस बीच गूगल, अमेजन, एपल, फेसबुक, माइक्रोसॉफ्ट, नेटफ्लिक्स और टेस्ला समेत टेक जगत की तमाम दिग्गज कंपनियां मंदी से निपटने की तैयारी कर रही हैं। इन कंपनियों ने या तो कर्मचारियों की छंटनी की है या भर्तियां कम कर रही हैं। आइए जानते हैं कि मंदी के डर से मजबूर टेक कंपनियां क्या कदम उठा रही हैं।
अल्फाबेट/गूगल
गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट ने भर्ती की प्रक्रिया धीमी कर दी है। कंपनी के CEO सुंदर पिचाई ने एक इंटरनल मेमो में कर्मचारियों को बताया है कि दूसरी तिमाही में गूगल ने भले ही 10 हजार लोगों को भर्ती किया है, लेकिन साल के बचे हिस्से में इसे धीमा किया जाने वाला है। उन्होंने साफ कहा कि अन्य कंपनियों की तरह गूगल के ऊपर भी मंदी का असर होगा। अभी गूगल में 1,64,000 कर्मचारी काम कर रहे हैं।
अमेजन
अमेजन दुनिया में सबसे ज्यादा रोजगार देने वाली कंपनियों में से एक है। मार्च 2022 तक अमेजन के साथ 16 लाख कर्मचारी जुड़े हुए थे। कंपनी ने इस साल अप्रैल में कहा था कि उसके पास जरूरत से ज्यादा कर्मचारी हो गए हैं। उसने कहा था कि महामारी के चलते लीव पर गए कर्मचारी काम पर लौट आए हैं। जिससे कुछ ही दिनों में स्टाफ की जो कमी थी वह वह बहुत ज्यादा हो गई है। इससे उत्पादकता प्रभावित हो रही है। कंपनी अपने कुछ वेयरहाउसेज को लीज पर चढ़ा रही है और ऑफिस स्पेस के डेवलपमेंट को फिलहाल रोक रही है।
एपल
एपल ने अभी तक इस बारे में ऑफिशियल तौर पर कुछ नहीं कहा है। हालांकि ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में मामले से जुड़े सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि कंपनी आर्थिक मंदी से जूझने के लिए भर्तियां कम करने और कुछ डिवीजंस में खर्च घटाने की योजना पर काम कर रही है। सितंबर 2021 तक के आंकड़ों के अनुसार, एपल के साथ 1.54 लाख कर्मचारी काम कर रहे थे।
फेसबुक
फेसबुक की पैरेंट कंपनी मेटा ने इंजीनियरों की भर्ती की योजना कम से कम 30% कम कर दी है। कंपनी के CEO मार्क जुकरबर्ग ने कर्मचारियों से कहा है कि वह हालिया इतिहास के सबसे बुरे आर्थिक दौर में से एक की उम्मीद कर रहे हैं। इस साल मार्च के अंत तक सोशल मीडिया व इंटरनेट कंपनी के साथ करीब 78 हजार लोग काम कर रहे थे।
माइक्रोसॉफ्ट
माइक्रोसॉफ्ट ने मई में कर्मचारियों को बताया था कि वह विंडोज, ऑफिस और टीम ग्रुप्स में भर्तियां कम करने जा रही है, ताकि आर्थिक उथल-पुथल के लिए तैयार रहा जा सके। हाल ही में कंपनी ने कुछ कटौतियां भी की थी, जो उसके वर्कफोर्स के 01% से भी कम है। साल 2021 के अंत तक कंपनी के पास 1.81 लाख कर्मचारी थे।
नेटफ्लिक्स
वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म चलाने वाली कंपनी नेटफ्लिक्स कई राउंड में छंटनियां कर चुकी हैं। नेटफ्लिक्स ने सबसे पहले मई में 150 लोगों को नौकरी से निकाला। इसके बाद जून में कंपनी ने फिर से 300 कर्मचारियों की छंटनी की। कंपनी को विभिन्न कारणों से सब्सक्राइबर्स के मामले में नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। पहली तिमाही में नेटफ्लिक्स के सब्सक्राइबर्स की संख्या में 2 लाख की गिरावट आई। इसके बाद जून तिमाही में कंपनी को 9.70 लाख सब्सक्राइबर गंवाने पड़ गए। नेटफ्लिक्स कंपनी में पिछले साल के अंत तक 11,300 कर्मचारी काम कर रहे थे।
टेस्ला
दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति एलन मस्क की इलेक्ट्रिक व्हीकल कंपनी टेस्ला ने जून में कैलिफोर्निया के सैन माटिओ स्थित एक फैसिलिटी को बंद करने के बाद ऑटोपायलट डिपार्टमेंट के 200 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला। एलन मस्क खुद मंदी की आशंका जाहिर कर चुके हैं और साफ कह चुके हैं कि इससे जूझने के लिए छंटनी जरूरी है। उन्होंने ब्लूमबर्ग को एक इंटरव्यू में कहा था कि अगले तीन महीने में करीब 10% वेतन पानी वाले कर्मचारियों की नौकरियां जा सकती हैं। टेस्ला के साथ 2021 के अंत तक दुनिया भर में 01 लाख कर्मचारी जुड़े हुए थ

बहुचर्चित खबरें