Friday, October 7, 2022
Homebreking newsTechnology : VLC Media Player Ban, सरकार का बड़ा फैसला- एक और...

Technology : VLC Media Player Ban, सरकार का बड़ा फैसला- एक और चाइनीज ऐप बैन, सामने आई चौंकाने वाली वजह

VLC media player banned in India: सरकार ने पहले भी करीब 350 चाइनीज ऐप को सुरक्षा कारणों से बैन किया था. हाल ही में BGMI भी गूगल प्ले-स्टोर और एपल ऐप स्टोर से अचानक से गायब हो गया था. 2020 में PUBG को बैन किए जाने के बाद BGMI को उसका सब्सटीट्यूट बनाकर उतारा गया था।

VLC media player banned in India: मीडिया प्लेयर और वीडियो स्ट्रीमिंग सर्वर वीएलसी मीडिया प्लेयर (VLC media player) को देश में बैन कर दिया गया है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, VideoLAN प्रोजेक्ट के वीएलसी मीडिया प्लेयर और वेबसाइट को सरकार ने आईटी अधिनियम, 2000 के तहत बैन किया है. वीएलसी मीडिया प्लेयर और इसकी वेबसाइट की सर्विसेज को करीब दो महीने पहले से ही बंद किया जा चुका है. हालांकि, कंपनी की तरफ से इस पर कोई बयान नहीं आया है. लेकिन, इसकी वेबसाइट डाउन है और डाउनलोड लिंक को भी ब्लॉक कर दिया गया है. वीएलसी मीडिया की वेबसाइट खोलने पर आई एक्ट के तहत बैन किए जाने का मैसेज दिख रहा है।

यह भी जाने : महिंद्रा की नई स्कॉर्पियो क्लासिक SUV पेश, इसके बंपर और बोनट पहले से ज्यादा बोल्ड और आकर्षक

चाइनीज ऐप पर सख्त मोदी सरकार
मोदी सरकार ने इससे पहले करीब 350 चाइनीज ऐप को सुरक्षा कारणों से देश में बैन किया था. हाल ही में बैटलग्राउंड्स मोबाइल इंडिया (BGMI) को भी गूगल प्ले-स्टोर और एप्पल के ऐप स्टोर से अचानक गायब कर दिया गया था. इसके बाद BGMI के स्टोर से गायब होने से गेम प्लेयर परेशान हो गए थे और ट्विटर BGMI हैशटैग ट्रेंड कर रहा था. बाद में BGMI बैन होने की पुष्टि की गई. 2020 में PUBG को बैन किए जाने के बाद BGMI को उसका सब्सटीट्यूट बनाकर उतारा गया था।

चीन भेजा जा रहा था यूजर्स का डेटा

भारत में अब कोई भी VLC को एक्सेस नहीं कर सकता है. वीएलसी मीडिया प्लेयर ACT फाइबरनेट, वोडाफोन-आइडिया और दूसरे सभी प्रमुख ISP पर ब्लॉक है. सरकार ने सैकड़ों चीनी ऐप्स को भी ब्लॉक किया था, इनमें टिकटॉक, कैमस्कैनर और भी कई पॉपुलर ऐप्स शामिल हैं. ऐप्स को ब्लॉक करने के पीछे वजह है कि सरकार को इनपुट मिले थे कि ये प्लेटफॉर्म्स चीन को यूजर्स का डेटा भेज रहे हैं. हालांकि, वीएलसी मीडिया प्लेयर एक चीनी कंपनी सपोर्टेट नहीं है, बल्कि इसे पेरिस स्थित फर्म VideoLAN बनाया गया है।

यह भी जाने : Tata Group के इन 2 स्‍टॉक्‍स में 33% तक रिटर्न पाने का मौका, ब्रोकरेज लगा रहे हैं दांव, देखें टारगेट

ट्वीट से मिली जानकारी

बैन पर कंपनी की तरफ से अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. एक ट्विटर यूजर ने ट्वीट कर कहा कि इस प्लेटफॉर्म पर दो महीने पहले से ही बैन लगा दिया गया है. यूजर ने लिखा कि इस प्लेटफॉर्म को भारत में आईटी अधिनियम, 2000 के तहत सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के आदेश पर बंद किया गया है।

बहुचर्चित खबरें