Friday, October 7, 2022
Homeauto mobileVehicle Scrapping Facilities : अब कार माल‍िकों को म‍िलेगी यह सुव‍िधा, केंद्रीय...

Vehicle Scrapping Facilities : अब कार माल‍िकों को म‍िलेगी यह सुव‍िधा, केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री न‍ित‍िन गडकरी ने बताई सरकार की योजना

Vehicle Scrapping Facilities : अब कार माल‍िकों को म‍िलेगी यह सुव‍िधा, केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री न‍ित‍िन गडकरी ने बताई सरकार की योजना पीएम मोदी ने पिछले साल अगस्त में नेशनल व्हीकल जंक पॉलिसी लॉन्च की थी और कहा था कि इससे कचरे और प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों को व्यवस्थित तरीके से खत्म करने में मदद मिलेगी।

वाहन स्क्रैपिंग नीति पर नितिन गडकरी : केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सरकार ने देश के हर जिले में कम से कम तीन पंजीकृत वाहन स्क्रैपिंग केंद्र खोलने की योजना बनाई है। गडकरी ने ऑटो कलपुर्जे बनाने वाली संस्था एसीएमए के वार्षिक कार्यक्रम में कहा कि सड़क मंत्रालय को रोपवे, केबल कार और फनिक्युलर रेलवे के लिए 206 प्रस्ताव मिले हैं।

एक साल पहले शुरू हुई थी वाहन कबाड़ नीति
केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘सरकार हर जिले में तीन पंजीकृत वाहन कबाड़ सुविधाएं या केंद्र खोल सकती है।’ पीएम मोदी ने पिछले साल अगस्त में राष्ट्रीय वाहन स्क्रैप नीति की शुरुआत की और कहा कि इससे अप्रचलित और प्रदूषणकारी वाहनों को व्यवस्थित रूप से समाप्त करने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़े : 1.2 लाख रुपये प्रति माह तक मिलेगी सैलेरी, अगर आप 12 वी पास है तो कर सकते हो आवेदन

भारत में वैश्विक सुरक्षा मानक अपनाएं
इसके अलावा नितिन गडकरी ने कहा कि भारत में ज्यादातर वाहन निर्माता पहले से ही छह एयरबैग वाली कारों का निर्यात कर रहे हैं। उन्हें भारत में कारों के लिए भी ऐसे सुरक्षा मानकों को अपनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वाहन निर्माताओं को छोटी सस्ती कारों का इस्तेमाल करने वालों की सुरक्षा के बारे में सोचना चाहिए। एसीएमए के वार्षिक सत्र को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि हर साल करीब पांच लाख सड़क हादसों में 1.5 लाख लोग मारे जाते हैं और तीन लाख से ज्यादा लोग घायल होते हैं।

यह भी पढ़े : मलाइका ने इस फैशनेबल स्टाइल में किया फोटोशूट, लोग देखते ही रह गए

लोगों के जीवन के बारे में क्यों नहीं सोचते?
उन्होंने कहा, ‘भारत में ज्यादातर वाहन निर्माता छह एयरबैग वाली कारों का निर्यात कर रहे हैं। लेकिन, वे भारत में आर्थिक लागत के कारण हिचकिचा रहे हैं। गडकरी ने आश्चर्य जताया कि वाहन निर्माता भारत में सस्ती कारों का उपयोग करने वाले लोगों के जीवन के बारे में क्यों नहीं सोच रहे हैं। मंत्री ने कहा कि देश में दुर्घटनाओं को कम करना समय की मांग है।

बहुचर्चित खबरें