ये है गेहूं की सर्वाधिक पैदावार वाली गेहूं की किस्म, किसानो के लिए आमदनी में करेगी मुनाफा, पढ़े पूरी खबर

Best Wheat Variety In India: ये है गेहूं की सर्वाधिक पैदावार वाली गेहूं की किस्म, किसानो के लिए आमदनी बढ़ाने के लिए बेस्ट ऑप्शन, जानिए इसके बारे में, अगर आप अपने गेहूं की अच्छी पैदावार के लिए अच्छी किस्म की तलाश कर रहे हैं तो गेहूं की DBW 296 (करण ऐश्वर्या) आपके लिए एक बेहतरीन ऑप्शन हो सकती है। वैज्ञानिकों द्वारा गेहूं की इस किस्म को सभी प्रकार के परीक्षणों के बाद जारी किया गया है। मुख्य रूप से गेहूं की यह किस्म रोगों के लिए प्रतिरोधी है।

ये भी पढ़िए :कड़कनाथ मुर्गी पालन की बड़ी सबसे ज्यादा डिमांड, इस तरह लाखो रूपयो से ज्यादा कमा सकते है कड़कनाथ बिजनेस से, बस इस तरह से करना होगा यह बिजनेस

जानिए गेहूं की किस्म DBW 296 के बारे में (Know about wheat variety DBW 296)

hqdefault 31 1

इस पोस्ट के माध्यम से हम आज आपको गेहूं की किस्म DBW 296 (करण ऐश्वर्या) से संबंधित हर प्रकार की जानकारी प्रदान करेंगे। गेहूं की इस किस्म की विशेषताएं जानने के लिए लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

गेहूं की किस्म DBW 296 विकसित एक नई सर्वश्रेष्ठ उपज देने वाली गेहूं की किस्म है (Wheat variety DBW 296 is a new best yielding wheat variety developed)

hqdefault 33

गेहूं की किस्म DBW 296 (करण ऐश्वर्या) आईसीएआर-भारतीय गेहूं और जौ अनुसंधान संस्थान, करनाल द्वारा विकसित एक नई सर्वश्रेष्ठ उपज देने वाली गेहूं की किस्म है। मुख्य रूप से गेहूं की व DBW 296 (करण ऐश्वर्या) भारत देश के उत्तर-पश्चिमी मैदानों के लिए जारी की गई है।

कई राज्य में गेहूं की इस किस्म का परिक्षण किया है (This variety of wheat has been tested in many states.)

maxresdefault 2022 11 06T102925.932

उत्तर पश्चिमी मैदानों में पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान (कोटा और उदयपुर डिवीजनों को छोड़कर), पश्चिमी उत्तर प्रदेश (झांसी डिवीजन को छोड़कर), जम्मू और कश्मीर के कुछ हिस्सों (जम्मू और कठुआ जिला), हिमाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों (ऊना जिला और पांवटा घाटी) उत्तराखंड (तराई क्षेत्र) शामिल हैं।

ये भी पढ़िए :Rashmika Mandanna:लाल लहॅगा पहनकर रश्मिका मंदाना ने अपनी अदाकारी का जलवा बिखेरा,दर्शक देख हुए दीवाने

जानिए इसकी खासियत के बारे में (Know about its specialty)

355591 dbw303 wheat

DBW 296 (करण ऐश्वर्या) किस्म सूखे के प्रति सहनशील हैं।
• इसकी उपज क्षमता 83.3 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है।
• यह किस्म केवल 2 सिंचाई के साथ 56.1 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की औसत उपज प्रदान करेगा।
• इसमें दाने नरम से अर्ध कठोर, आयताकार, एम्बर रंग के होते हैं जिनका वजन 1000-ग्रेन ~ 43 ग्राम होता है।
• गेहूं की यह किस्म ब्रेड, चपाती और नान जैसे बहुउपयोगी उत्पादों के लिए भी उपयुक्त है।
• DBW 296 (करण ऐश्वर्या) किस्म पीले, भूरे और काले ‘रस्ट’ और अन्य रोगों के लिए प्रतिरोधी है।
• गेहूं की यह नई किस्म सभी प्रमुख बीमारियों के लिए प्रतिरोधी है जिससे गेहूं की उपज कम हो सकती है, किसान रोग नियंत्रण के लिए फफूंदनाशकों के उपयोग से बचकर लगभग 2200 रुपये प्रति हेक्टेयर बचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़े